Brain Stroke in Hindi: Causes and Symptoms / ब्रेन स्ट्रोक : कारण और लक्षण

Brain stroke in hindi
आज हम बात करेंगे Brain Stroke in Hindi में इसे कई नामों से जाना जाता हैं जैसे स्ट्रोक(Stroke), ब्रेन अटैक (Brain Attack), सेरेब्रोवास्कुलर एक्सीडेंट (Cerebrovascular Accident (CVA), ट्रांसिएंट इस्केमिक अटैक (Transient Ischemic Attack (TIA), इस्केमिक स्ट्रोक (Ischemic stroke) और हेमोरेजिक स्ट्रोक (Hemorrhagic Stroke) के नाम से भी जाना जाता है।

Brain stroke in hindi

स्ट्रोक (Stroke) एक ऐसी स्थिति है। जिसमें मस्तिष्क (Brain) को रक्त प्रयाप्त मात्रा में नहीं मिल पाता हैं। यह रक्त की आपूर्ति बाधित हो जाने के कारण होता है। Stroke वैसे तो किसी भी उम्र में हो सकता हैं परन्तु आमतौर पर 65 वर्ष से अधिक आयु के वयस्कों में देखा जाता है। Stroke में हमारे शरीर के दिमाग (Brain), रक्त वाहिकाएं (Blood Vessels) और न्यूरॉन्स (Neurons) शामिल होते हैं।

ब्रेन स्ट्रोक को हिंदी में समझना आसान होता हैं। Brain stroke in Hindi

BRAIN STROKE IN HINDI

मुख्य रूप से Stroke तीन प्रकार का होता हैं:-

Transient ischemic attack (TIA):-

इसे “Mini-Stroke ” या “Warning stroke” के रूप में भी जाना जाता है। यह आमतौर पर कुछ मिनटों का ही होता है। TIA भविष्य में होने वाले Stroke का एक चेतावनी संकेत है। इसलिए इसे एक बड़े स्ट्रोक की तरह ही एक Emergency माना जाना चाहिए। Brain Stroke को हिंदी में समझना आसान होता हैं Brain stroke in Hindi

Ischemic Stroke की तरह, रक्त के थक्के (Blood Clots) अक्सर TIA का कारण बनते हैं। जिन लोगों को TIA है और वे इलाज नहीं कराते है उनमें से अधिकतर लोगों को 1 वर्ष के भीतर बड़ा Stroke Attack होने की संभावना ज्यादा रहती है। TIA को पहचानने और उसका इलाज करने से भविष्य में बड़े Stroke के खतरे को कम किया जा सकता है। ब्रेन स्ट्रोक को हिंदी में समझना आसान होता हैं। Brain stroke in Hindi

Ischemic Stroke: –

यह मुख्य रूप से मस्तिष्क (Brain) को रक्त की आपूर्ति करने वाली किसी भी रक्त वाहिका (Blood Vessels) में रुकावट के कारण होता है।

Hemorrhagic Stroke: –

इस प्रकार के Stroke में मस्तिष्क में रक्त की आपूर्ति करने वाली रक्त वाहिकायें (Blood Vessels) टूटने या लीक होने लगती हैं । जिसके कारण दिमाग में रक्त का प्रवाह (Blood Flow) पूरी तरह से नहीं हो पाता हैं और दिमाग में Oxygen की कमी के कारण Stroke की समस्या होने लगती हैं।

Stroke अक्सर अचानक होता है। हालाँकि, कुछ लक्षण ऐसे होते हैं । जो Stroke की पहचान करने में मदद कर सकते हैं जैसे चेहरा झुकना (Drooping Face), हाथ और पैर की कमजोरी (Weakness of Arms and Legs), अस्पष्ट वाणी (Slurred Speech) और शारीरिक संतुलन की कमी (loss of balance) होना। ब्रेन स्ट्रोक को हिंदी में समझना आसान होता हैं। Brain stroke in Hindi

ऐसे कई कारक हैं जो स्ट्रोक के खतरे को बढ़ा सकते हैं। इनमें

वृद्धावस्था (Old Age)

गतिहीन जीवन शैली (Sedentary Lifestyle)

तनाव (Stress)

मोटापा (Obesity)

धूम्रपान (Smoking)

अनियंत्रित उच्च रक्तचाप (Uncontrolled High Blood Pressure)

अनियंत्रित मधुमेह (Uncontrolled Diabetes)

उपचार के दृष्टिकोण में स्टैटिन (statins), एंटीकोआगुलंट्स (anticoagulants) जैसी दवाएं और थ्रोम्बेक्टोमी (thrombectomy) जैसी प्रक्रियाएं शामिल हैं।

Stroke के बाद रिकवरी, स्ट्रोक की गंभीरता, मस्तिष्क का कौन सा हिस्सा प्रभावित हुआ है, क्षति की सीमा और कितनी जल्दी उपचार शुरू किया गया था, पर निर्भर करता है।

स्ट्रोक एक चिकित्सीय आपात (Medical Emergency) स्थिति है और यदि आपातकालीन उपचार तुरंत शुरू कर दिया जाए तो Stroke से उबरने की बेहतर संभावना होती है। याद रखें, Stroke के दौरान हर मिनट मायने रखता है।

 

स्ट्रोक के लक्षण (Symptoms of Stroke): – Brain Stroke in Hindi

अचानक चक्कर आना और संतुलन खोना (Sudden dizziness and loss of balance)

Stroke के कारण दिमाग में ऑक्सीजन की आपूर्ति पूरी तरह से नहीं हो पाती हैं। जिसके कारण आचनक चक्कर आने लगते हैं और व्यक्ति अपना शारीरिक संतुलन खोने लगता हैं। शरीर का बैलेंस बिगड़ने लगता हैं और ऐसा लगता हैं जैसे गिरने वाले हों।

दृश्य गड़बड़ी (Visual disturbances)

स्ट्रोक में Visual disturbances एक आम बात हैं। इसमें एक या दोनों आँखों में परेशानी हो सकती हैं।यह समस्या तब आती हैं जब  मस्तिष्क का दाहिनी हिस्सा (Right Part) स्ट्रोक के कारण प्रभावित  होता है। जिससे आप अपने प्रभावित हिस्से की वस्तुओं और लोगों को नहीं देख पाते हैं, जिससे आप लोगों या चीजों से टकरा सकते हैं क्योंकि आपको एहसास नहीं होता कि वे वहां हैं।

इस समस्या को Visual inattention  या  visual neglect भी कहा जाता हैं

चेहरा झुकना (Face Drooping)

Stroke का एक कारण High BP भी हो सकता हैं। और इस कारण चेहरा एक तरफ झुक सकता हैं।  यदि आपको संदेह है कि आपके परिवार में किसी को स्ट्रोक हुआ है, तो उन्हें मुस्कुराने के लिए कहें। यदि चेहरा एक तरफ झुक जाए तो यह स्ट्रोक का संभावित संकेत हो सकता है।

पक्षाघात (Paralysis)

Stroke के कारण हाथों और पैरों में कमजोरी भी हो सकती हैं।  यदि हाथ ऊपर उठाने के बाद अपने आप नीचे की ओर खिसक जाते हैं, और हाथ और पैरों पर निंयत्रण खो जाता हैं  तो यह स्ट्रोक का संकेत हो सकता है। ब्रेन स्ट्रोक को हिंदी में समझना आसान होता हैं। Brain stroke in Hindi

अस्पष्ट वाणी (Slurred speech):

Stroke के कारण वयक्ति का अपने अंगों पर Control नहीं हो पाता हैं। Stroke से पीड़ित व्यक्ति को एक साधारण वाक्य का उच्चारण करने में भी कठिनाई होती है। बोलने में कठिनाई होना भी Stroke का एक संकेत हो सकता हैं।

भ्रम (Confusion):

Stroke से पीड़ित व्यक्ति का मस्तिष्क कमजोर होने लगता हैं और उसका अपने दिमाग पर Control भी समाप्त हो जाता हैं। जिसके कारण उसे मतिभ्रम होने लगता हैं। Stroke होने पर व्यक्ति को दूसरों को समझने में भ्रम या कठिनाई हो सकती है।

सिरदर्द (Headache):

बिना किसी ज्ञात कारण के अचानक गंभीर सिरदर्द होना भी स्ट्रोक का चेतावनी संकेत हो सकता है। अचानक और गंभीर सिरदर्द, जो उल्टी, चक्कर आना के साथ हो सकता है, यह संकेत दे सकता है कि आपको स्ट्रोक हो रहा है। Stroke का यह एक प्रारंभिक लक्षण भी हो सकता हैं। ब्रेन स्ट्रोक को हिंदी में समझना आसान होता हैं। Brain stroke in Hindi

READ ALSO:- क्या आप जानते हैं? हर रोज़ अण्डे खाने के दुष्परिणाम

स्ट्रोक के कारण (Causes Of Stroke)- Brain Stroke in Hindi

स्ट्रोक के प्रकार  पर ही निर्भर करता है की stroke का कारण क्या हो सकता हैं । मुख्य रूप से स्ट्रोक को  3 प्रकारों में वर्गीकृत किया गया है:-:

  1. इस्कीमिक स्ट्रोक (Ischemic stroke):

अधिकांश स्ट्रोक इस्कीमिक स्ट्रोक होते हैं। इस प्रकार के स्ट्रोक तब होते हैं जब मस्तिष्क या दिमाग के कुछ हिस्सों में ऑक्सीजन युक्त रक्त की आपूर्ति कम या गंभीर रूप से प्रतिबंधित या रुक जाती है। रक्त और ऑक्सीजन की कमी के कारण , मस्तिष्क के उस हिस्से की कोशिकाएं मर जाती हैं, और शरीर का वह हिस्सा जिसे वह नियंत्रित करता है, काम करना बंद कर देता है। रक्त आपूर्ति की कमी निम्नलिखित कारणों से हो सकती है:

अवरुद्ध धमनियाँ (Blocked arteries):

वसा (Fat) और कोलेस्ट्रॉल (Cholestrol) रक्त वाहिकाओं (Blood Vessels) की दीवारों पर जमा हो जाते हैं। समय के साथ, ये जमाव और कठोर हो जाते हैं और इस जमाव को प्लाक (Plaque) कहा जाता है। प्लाक Blood Vessels को रोक देता है जिससे रक्त के लिए मार्ग संकीर्ण हो जाता है। इसी के कारण High BP की समस्या रहने लगती हैं।

रक्त के थक्के (Blood Clots):

जब मस्तिष्क की Blood Vessels जो पहले से ही बहुत संकीर्ण है, उसमे एक थक्का यानि Clot बन जाता है तो यह थ्रोम्बोटिक स्ट्रोक (Thrombotic Stroke) का कारण बनता है। जब शरीर में कहीं और बना हुआ रक्त का थक्का टूट जाता है और मस्तिष्क में रक्त वाहिका में चला जाता है। जिसके कारण एम्बोलिक स्ट्रोक (Embolic stroke) या सेरेब्रल एम्बोलिज्म (Cerebral Embolism) होता है।

Embolic stroke रक्त में हवा के बुलबुले या किसी अन्य पदार्थ के कारण भी हो सकता है जो मस्तिष्क में रक्त वाहिका को अवरुद्ध करता है।

READ ALSO :- नए साल में स्वस्थ रहने के लिए खाने के 7 सरल तरीके

  1. रक्तस्रावी स्ट्रोक (Hemorrhagic Stroke):

इस प्रकार के स्ट्रोक में, मस्तिष्क में एक कमजोर रक्त वाहिका टूट जाती है जिससे मस्तिष्क में रक्त का रिसाव होने लगता है। यह रक्त आसपास के मस्तिष्क के ऊतकों (Tissues) में जमा हो जाता है और उन्हें दबाता है।

Hemorrhagic Stroke दो प्रकार के होते हैं:

Intracerebral hemorrhage:

Hemorrhagic Stroke का सबसे आम प्रकार है। “Intracerebral” का अर्थ है “मस्तिष्क के भीतर”, यह तब होता है जब मस्तिष्क में एक Blood Vessels फट जाती है। जिससे आसपास के ऊतकों में रक्त भर जाता है। Intracerebral Stroke आमतौर पर उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) के कारण होता है।

Subarachnoid hemorrhage:

Hemorrhagic Stroke का ही एक प्रकार है। यह तब होता हैं जब मस्तिष्क और खोपड़ी के बीच की जगह में रक्तस्राव होता है। सिर की चोट (Head Injury) , रक्त को पतला करने वाली दवाओं का अत्यधिक सेवन जैसे कारक Subarachnoid Hemorrhage का कारण बन सकते हैं।

  1. Transient ischemic attack (TIA):

इसे “Mini stroke” के रूप में भी जाना जाता है। यह आमतौर पर कुछ मिनटों से अधिक नहीं होता है। TIA भविष्य में होने वाले स्ट्रोक का एक चेतावनी संकेत होता  है। इसलिए इसे एक बड़े स्ट्रोक की तरह ही एक EMERGENCY माना जाना चाहिए। इस्केमिक स्ट्रोक की तरह, रक्त के थक्के अक्सर TIA का कारण बनते हैं। जिन लोगों को TIA  है और वे इलाज नहीं कराते उनमें से अधिकतर लोगों को 1 वर्ष के भीतर बड़ा स्ट्रोक हो जाता है। TIA को पहचानने और उसका इलाज करने से भविष्य में बड़े स्ट्रोक का खतरा कम हो सकता है।

Brain Stroke की जटिलताएँ (Complications of Brain Stroke)- Brain Stroke in Hindi

स्ट्रोक की जटिलताएँ हर व्यक्ति में अलग-अलग होती हैं। वे स्ट्रोक की गंभीरता के साथ-साथ मस्तिष्क का कौन सा हिस्सा इससे प्रभावित होता है, इस पर भी निर्भर करते हैं। स्ट्रोक से जुड़ी कुछ Complications इस प्रकार हैं:

नज़रों की समस्या (vision problems)

भूलने की बीमारी (Amnesia)

संवेदी परिवर्तन (sensory changes)

मूत्राशय का  नियंत्रण खोना (loss of bladder control)

मिरगी के दौरे (epileptic seizures)

फुफ्फुसीय अंतःशल्यता (pulmonary embolism)

कंधे का दर्द (Shoulder pain)

भावनात्मक परिवर्तन (emotional changes)

चिंता और अवसाद (anxiety and depression)

 

अक्सर पूछे जाने वाले प्रशन – Brain Stroke in Hindi

Q . क्या स्ट्रोक जीवन के लिए खतरा है?

Ans.  जी हां बिलकुल , यदि रोगी को सही समय पर सही ईलाज न दीया जाए तो Stroke रोगी के लिये जानलेवा हो सकता है। स्ट्रोक की जटिलताओं से बचने के लिए इसके चेतावनी संकेतों को पहचानना और तत्काल कार्रवाई करना महत्वपूर्ण होता है।

Q. Brain Stroke के चेतावनी संकेत कौन-कौन से हैं ?

Ans. स्ट्रोक के सामान्य चेतावनी संकेत चेहरे का झुकना, हाथों और पैरों में कमजोरी महसूस होना , बोलने में कठिनाई, शारीरिक संतुलन खोना, याददाश्त में कमी और चक्कर आना हैं।

Q. कौन कौन से कारण ब्रेन स्ट्रोक को बढ़ा सकते है?

Ans. कुछ कारण हैं जिनसे brain stroke होने का खतरा हमेशा बना रहता हैं जैसे

मोटापा (Obesity )

गतिरहित जीवन (sedentary life)

ज्यादा शराब पीना

मधुमेह (Diabetes)

धूम्रपान (Smoking)

उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure)

उच्च कोलेस्ट्रॉल (high cholesterol)

Q. Stroke कितने प्रकार का होता हैं ?

Ans. Stroke प्रमुख रूप से 3 प्रकार का होता हैं :-

  1. Transient ischemic attack
  2. Ischemic stroke
  3. Hemorrhagic stroke

Q.      डॉक्टर को कब दिखाना चाहिये ?

Ans. यदि आपको स्ट्रोक के लक्षण दिखाई देते हैं, तो तुरंत चिकित्सा सहायता लेनी चाहिये , भले ही ये लक्षण थोड़े समय के लिये ही हो । “तेजी से” सोचें और निम्नलिखित कार्य करें:-

व्यक्ति को मुस्कुराने के लिए कहें. क्या चेहरे का एक तरफ का हिस्सा झुक जाता है?

व्यक्ति को दोनों हाथ ऊपर उठाने के लिए कहें। क्या एक हाथ नीचे की ओर गिर रहा है? या एक हाथ उठने में असमर्थ है?

जब व्यक्ति अपना नाम लेने में भी कठिनाई अनुभव कर रहा हो । क्या उसके बोल में तुतलाहट हैं ?

यदि आप इनमें से कोई भी लक्षण देखते हैं, तो आपको तुरंत आपातकालीन चिकित्सा सहायता लेनी चाहिये ।

धन्यवाद

यह आर्टीकल आपको कैसा लगा? हमें जरूर बतायेगा, हमें आपके विचारों तथा सुझावों का इंतजार रहेगा। आप हमें सुझाव COMMENT BOX के जरिये भेज सकते हैं।

DISCLAMIER: – HEALTHSWIKI.COM केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए सामान्य जानकारी प्रदान करता है। इस वेबसाइट का उद्देश आपको अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना और स्वास्थ्य से जुडी जानकारी मुहैया कराना हैं। HEALTHSWIKI.COM साइट में दी गई जानकारी, या अन्य साइटों के लिंक के माध्यम से प्राप्त जानकारी, चिकित्सा या पेशेवर देखभाल के लिए एक विकल्प नहीं है। यदि आपको लगता है कि आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है तो आपको तुरंत अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

Visited 11 times, 1 visit(s) today

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
hi_INHindi