Do you know? 10 Symptoms of Vitamin D Deficiency/ क्या आप जानते हैं? विटामिन डी (VITAMIN-D) की कमी के 10 लक्षण

नमस्कार दोस्तों ! आज हम बात करेंगे 10 Symptoms of Vitamin D Deficiency के बारे में | जैसा की आप सब जानते ही होंगे की VITAMIN D हमारे शरीर के लिये बहुत ही महत्वपूर्ण हैं I

10 Symptoms of Vitamin D Deficiency
10 Symptoms of Vitamin D Deficiency

यह भी पढ़ें:- Vitamin-D Rich Fruits for Good Health

हमारे शरीर के लिये जिस तरह अन्य ख़निज , लवण, या विटामिन्स जरूरी हैं उसी प्रकार से VITAMIN D भी हमारे शरीर के लिए उतना ही जरूरी हैं I

आपको इस बारे में अच्छी तरह से पता होना चाहिए कि आपके शरीर में जो भी लक्षण या कोई कमज़ोरी या कोई बदलाव हो रहा हैं। ये सभी चीजें किस कारण से हो रही हैं? हमारे शरीर में कोई भी बदलाव किसी भी  विटामिन और खनिजों की कमी या अधिकता के कारण भी हो सकते हैं ।

आज हम एक ऐसे ही विटामिन के बारे में बात करेंगे जो हमारे शरीर के लिये बहुत ही जरूरी हैं। हमारे शरीर की सुचारु गतिविधियों के लिये हमारे शरीर में VITAMIN D का सही मात्रा में होना बहुत जरूरी होता हैं।

 हमारे शरीर को भोजन में उपलब्ध पोषक तत्वों को अवशोषित करने के लिए विटामिन डी की जरूरत होती है। विटामिन डी (VITAMIN D) हमारे शरीर को संक्रमण से बचाने में भी मदद करता है और  शरीर की प्रतिरोधक क्षमता(IMMUNITY)  बढ़ाने में भी विटामिन डी बहुत मददगार होता है।

 हमारे नर्वस(NERVOUS SYSTEM) सिस्टम तथा  मांसपेशियों के सुचारू रूप से कार्य करने के लिए भी विटामिन डी बहुत जरूरी होता है।

VITAMIN-D को SUNSHINE VIAMIN भी कहते हैं। सिर्फ सूर्य की धूप ही VITAMIN D का प्राकृतिक स्त्रोत हैं परन्तु कुछ खाद्य पदार्थो से भी इसे पाया जा सकता हैं। VITAMIN D एक घुलनशील विटामिन होता हैं।

VITAMIN D के कारण ही कैल्शियम हमारे शरीर में पूरी तरह अवशोषित होता हैं। VITAMIN D हमारी हड्डीओं को मजबूती प्रदान करता हैं। VITAMIN D से हमारे शरीर को ऊर्जा प्राप्त होती हैं।

हमारी त्वचा जब सूरज की रोशनी (धूप) में आती है, तो  विटामिन डी बनाती है। सूर्य की रोशनी से निकलने वाली अल्ट्रावायलेट बी (ultraviolet B, UVB ) किरणों  का  VITAMIN D को बनाने  में महत्वपूर्ण योगदान होता हैं ।

आजकल के जीवन में बहुत से बिमारिओ की जड़ विटामिन डी की कमी ही  होती हैं परन्तु जानकारी के आभाव में हम इसे पहचान नहीं पाते हैं। आजकल की हमारी दिनचर्या भी विटामिन डी की कमी का प्रमुख कारण होती हैं। हमारा सारा सारा दिन एक ही जगह पर बैठकर गुजर जाता हैं। कई कई हफ्तों तक हमारे शरीर को धुप नहीं मिल पाती हैं जो विटामिन डी की कमी का कारण बनती हैं।

इसलिये हमें इससे बचने के लिये हर रोज़ कम से कम 30 MINUTES सूरज की रोशनी में बिताने चाहिये।

10 Symptoms of Vitamin D Deficiency

विटामिन डी की कमी आजकल बहुत साधारण सी बात हो गयी हैं। इसका मुख्य कारण हमारी आजकल की ख़राब जीवन शैली हैं।

1. हड्डीओं का कमज़ोर होना :-10 Symptoms of Vitamin D Deficiency

विटामिन डी हड्डीओं के लिये बहुत आवश्यक तत्व हैं। विटामिन डी  की कमी शरीर को बहुत नुकसान पंहुचा सकती हैं। विटामिन डी हमारे रक्त में कैल्शियम और फॉस्फोरस की मात्रा को CONTROL करता हैं। ये दोनों ही तत्व हमारी हड्डीओं के लिये बहुत महत्वपूर्ण होते हैं।

2. शरीर में हमेशा दर्द रहना :-10 Symptoms of Vitamin D Deficiency

शरीर में लगातार दर्द का रहना भी विटामिन डी की कमी का एक कारण हो सकता हैं।  विटामिन डी की कमी के कारण हमारे शरीर में कैल्शियम की मात्रा कम होती जाती हैं। जिसके कारण मांसपसिओ में सिकुड़न पैदा हो जाती हैं और वो अपना स्वाभाविक काम नहीं कर पाती हैं। विटामिन डी की कमी के कारण जांघो और हाथों की माँसपेसिओ में दर्द रहने लगता हैं।

ऐसे लोगों को अक्सर बैठने -उठने में, या भारी सामान उठाने में कठिनाई होती है। और शरीर में हमेशा दर्द बना रहता हैं।

3. बार बार संक्रमित होना :-10 Symptoms of Vitamin D Deficiency

अगर आपको  बार-बार जुक़ाम,खांसी या बूखार होता हैं तो आपको अपनी सेहत को प्रमुखता से लेना चाहिये। क्योंकि हो सकता हैं ये सब विटामिन डी की कमी से ही हो रहा हो।

 विटामिन डी हमारे शरीर में बहुत महत्वपूर्ण ROLE अदा करता हैं।  विटामिन डी की कमी से ना सिर्फ हड्डियां या माँसपेसिआ प्रभावित होती हैं बल्कि इस विटामिन की कमी से हमारे शरीर की रोगों से लड़ने की क्षमता भी प्रभावित होती हैं।

विटामिन डी की कमी से हमारी रोगप्रतिरोधक क्षमता भी कमज़ोर हो जाती हैं। जिसके कारण हमारा शरीर बार- बार संक्रमित हो जाता हैं और हम बार बार बीमार हो जाते हैं।

जब हमारे शरीर में विटामिन डी की सही मात्रा होती हैं तो हमारी IMMUNITY मजबूत होती हैं। जिससे हमारे शरीर को अनेकों प्रकार के VIRUSES और BECTERIA से लड़ने में मदद मिलती हैं।

4. कमज़ोरी और थकावट महसूस करना :-10 Symptoms of Vitamin D Deficiency

अगर आप अपने शरीर में बहुत ज्यादा थकावट या कमज़ोरी महसूस करते हैं। तो ये भी विटामिन डी की कमी के कारण हो सकता हैं। विटामिन डी हमारे शरीर में ऊर्जा को भी नियंत्रित करता हैं।

लगातार कमज़ोरी हमारे मानसिक सवास्थय को भी प्रभावित करती हैं जो अवसाद का कारण बनती हैं।

5 . किडनी रोग होना :-10 Symptoms of Vitamin D Deficiency

हमारे शरीर में किडनी से संबंद्धित रोग होने में भी विटामिन डी की कमी का मुख्य ROLE हो सकता हैं। विटामिन डी हमारे शरीर में कैल्शियम के स्तर को निंयंत्रित करता हैं। विटामिन डी की कमी के कारण हमारे शरीर में कैल्शियम का स्तर बढ़ने लगता हैं और किडनी में जमा होने लगता हैं जो पथरी का कारण बनता हैं।

6.  मोटापा:-10 Symptoms of Vitamin D Deficiency

अगर आपके शरीर का वज़न अचानक से बढ़ने लगा हैं। तो आपको सावधान हो जाना चाहिये क्योंकि विटामिन डी की कमी इसका कारण हो सकती हैं। विटामिन डी की कमी होने के कारण हमारे शरीर का METABOLISM धीमा हो जाता हैं और FAT हमारे शरीर में जमा होने लगता हैं जिससे मोटापा बढ़ता हैं।

मोटापा बढ़ने के कारण और भी कई बीमारियां हमारे शरीर को जकड़ लेती हैं, जैसे B.P और SUGAR

7. अवसाद (LOW MOOD )से पीड़ित होना :-10 Symptoms of Vitamin D Deficiency

अगर आप हमेशा उदास रहते हैं या आपका किसी से बात करने का मन नहीं करता तो हो सकता हैं आप अवसाद से ग्रसित हो। अवसाद का एक कारण विटामिन डी की कमी भी हो सकती हैं।

विटामिन डी का हमारे मानसिक स्वास्थय पर सीधा प्रभाव पड़ता हैं। इस विटामिन की कमी से हमें DIPRESSION की समस्या हो सकती हैं। जब हमारा शरीर स्वस्थ होता हैं तो हमारा मन और दिमाग भी खुश होते हैं। जिससे हमें DIPRESSION जैसी समस्या नहीं हो पाती हैं।

सेरोटोनिन, नामक एक हार्मोन जो हमारे शरीर और मन को ख़ुशनुमा रखता है। जब रक्त में विटामिन डी का स्तर सही होता हैं तो SAROTONIN भी सही मात्रा में RELEASE होता है जिससे हमारा मन और शरीर प्रफुल्ल्ति रहते हैं । ।इसलिये हमारे  मस्तिष्क में कम सेरोटोनिन का बनना,अवसाद को बढ़ावा देता  है। और अवसाद को ही ‘निम्न मूड’ कहा जाता है।

इसलिए हमारे शरीर में विटामिन डी की पर्याप्त मात्रा हमारे मानसिक स्वास्थय को भी ठीक रखती हैं।

8. मांसपेशियां कमजोर होना:-10 Symptoms of Vitamin D Deficiency

माँसपेसिआ हमारे शरीर का एक महतवपूर्ण हिस्सा होती हैं। हमारे शरीर में विटामिन डी की कमी हमारी माँसपेसिओ को कमजोर कर सकती हैं।

कैल्शियम हमारे शरीर के लिये बहुत महत्वपूर्ण होता हैं और इसके सही अवशोषण के लिये विटामिन डी बहुत आवश्यक हैं। विटामिन डी के सही स्तर के कारण ही कैल्सिम हमारी हड्डीओं और माँसपेसिओ को मजबूत बनाता हैं। 

कई बार लोग बार बार माँसपेसिओ की कमज़ोरी और दर्द की शिकायत करते हैं। सही प्रकार से चलना या घूम भी नहीं पाते हैं। कोई भारी काम नहीं कर पाते हैं ये सब शरीर में विटामिन डी की कमी के कारण होता हैं।

इसलिये कैल्शियम के साथ-साथ हमें पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी का भी सेवन करना चाहिये।

9. बालों का झड़ना:-10 Symptoms of Vitamin D Deficiency

बालों का झड़ना आजकल एक आम समस्या हो गई हैं। इसका एक कारण हमारे शरीर में विटामिन डी की कमी हो सकता हैं। विटामिन डी हमारे शरीर में उन पौषक तत्वों को BOOST करने का काम करता हैं जो हमारे बालों को बढ़ने में सहायता करते हैं।

विटामिन डी हमारे शरीर में PHOSPATE और कैल्शियम के स्तर को कण्ट्रोल करता हैं। जो हमारे बालों के विकास के लिये बहुत जरूरी होते हैं।

इसलिये हमारे सवस्थ बालों के लिये विटामिन डी का सही LEVEL में होना बहुत जरूरी हैं।

10. जोड़ो का दर्द :-10 Symptoms of Vitamin D Deficiency

अगर आप घुटनों के दर्द की वज़ह से चलने-फिरने में परेशानी अनुभव करने लगे हैं। तो हो सकता हैं की ये सब विटामिन डी की कमी से हो रहा हो।

विटामिन डी हमारी हड्डीओं के साथ साथ हमारे शरीर के सभी जोड़ो  के लिये भी बहुत आवश्यक होता हैं। विटामिन डी की कमी के कारण हमारे जोड़ो में दर्द हो सकता हैं।

एक अध्ययन से पता चला है कि विटामिन डी की कमी वाले वयस्क जो 50 वर्ष से अधिक उम्र के हैं, उनके कूल्हे और घुटने के जोड़ों में दर्द होने की संभावना अधिक होती है। और यदि उन्हें विटामिन डी नहीं दिया जाता है तो इस दर्द के और भी बढ़ने  की संभावना अधिक होती  है।

एक अन्य अध्ययन से  पता चला है की जो लोग गठिआ (RHEUMATOID ARTHRITIS) से ग्रसित होते हैं उनमें विटामिन डी की मात्रा बहुत कम होती हैं  RHEUMATOID ARTHRITIS एक AUTOIMMUNE बीमारी हैं जो शरीर के सभी जोड़ो को प्रभावित करती हैं । अध्ययन में पाया गया कि RHEUMATOID ARTHRITIS वाले अधिकांश लोगों में विटामिन डी का स्तर कम था।

विटामिन डी की कमी को कैसे दूर किया जा सकता हैं ?

अधिकांश लोगों के लिए,विटामिन डी  अनुशंसित दैनिक ख़ुराक  600  अंतर्राष्ट्रीय इकाइयां (IU ) होती  है। 1 वर्ष तक के शिशुओं को केवल 400 IU की आवश्यकता होती है, और 70 वर्ष से अधिक आयु के वयस्कों को 800 IU की आवश्यकता होती है।

अपना सही दैनिक ख़ुराक प्राप्त करने के लिए, सुनिश्चित करें कि आप सही भोजन लें और धूप का प्रायप्त सेवन करें। जिससे हमारे शरीर में विटामिन डी की कोई कमी ना रह पाये।

धन्यवाद

यह आर्टीकल आपको कैसा लगा? हमें जरूर बतायेगा, हमें आपके विचारों तथा सुझावों का इंतजार रहेगा। आप हमें सुझाव COMMENT BOX के जरिये भेज सकते हैं। 

DISCLAMIER: – HEALTHSWIKI.COM केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए सामान्य जानकारी प्रदान करता है। इस वेबसाइट का उद्देश आपको अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना और स्वास्थ्य से जुडी जानकारी मुहैया कराना हैं। HEALTHSWIKI.COM साइट में दी गई जानकारी, या अन्य साइटों के लिंक के माध्यम से प्राप्त जानकारी, चिकित्सा या पेशेवर देखभाल के लिए एक विकल्प नहीं है। यदि आपको लगता है कि आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है तो आपको तुरंत अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

Visited 1 times, 1 visit(s) today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com