ASTHMA IN HINDI- A COMPLETE GUIDE / अस्थमा-एक संपूर्ण गाइड

ASTHMA IN HINDI

नमस्कार दोस्तों ! आज हम बात करेंगे अस्थमा, Asthma in Hindi के बारे में

Table of Contents

ASTHMA IN HINDI

ASTHMA IN HINDI
ASTHMA IN HINDI

READ ALSO:- पेट दर्द का ईलाज

अस्थमा या दमा एक दीर्घकालिक स्थिति है जिसमें  किसी व्यक्ति के वायुमार्ग या वायुमार्ग के आसपास की मांसपेशियों में सूजन आ जाती हैं और संकुचन के कारण फेफड़ों में वायुमार्ग संकीर्ण हो जाते हैं और अतिरिक्त बलगम उत्पन्न होता है, जिससे सांस लेना मुश्किल हो जाता है। इससे खांसी, घरघराहट, सांस लेने में तकलीफ और सीने में जकड़न जैसे लक्षण पैदा होते हैं। ये लक्षण रुक-रुक कर होते हैं और अक्सर रात में या व्यायाम के दौरान या ठंड के मौसम में बदतर होते हैं।

कुछ सामान्य ट्रिगर जो अस्थमा के लक्षणों को बदतर बना सकते हैं उनमें वायरल संक्रमण (जुकाम), धूल, धुआं, मौसम में बदलाव, या ठंड, घास और पेड़ के पराग, जानवरों के फर और पंख, धूल के कण, साबुन और इत्र शामिल हैं। ये ट्रिगर हर व्यक्ति(Asthma treatment in hindi) में अलग-अलग होते हैं।

अस्थमा का निदान मुख्य रूप से फेफड़ों के कार्य परीक्षण से किया जाता है इसमें फेफड़ों की कार्यक्षमता को जांचा जाता हैं लेकिन अन्य रक्त परीक्षण और एलर्जी परीक्षण भी Asthma का उचित इलाज़ करने में मदद करते हैं। अस्थमा का इलाज बहुत व्यापक है लेकिन बीटा-2 एगोनिस्ट और कॉर्टिकोस्टेरॉयड अस्थमा के इलाज का मुख्य आधार बने हुए हैं।

जब अस्थमा के दौरे को नियंत्रित करने की बात आती है तो जीवनशैली और रोकथाम के उपाय जैसे कि ट्रिगर से बचना, ऐसे खाद्य पदार्थों से परहेज करना जो अस्थमा के दौरे के जोखिम को बढ़ाते हैं और तनाव से दूर रहना बहुत मददगार हो सकते हैं। गंभीर मामलों में, यह स्थिति अस्थमाटिकस नामक स्थिति को जन्म दे सकती है जिसके लिए अस्पताल में भर्ती होने होना पड़ सकता है।

दमा के लक्षण– SYMPTOMS OF ASTHMA IN HINDI

यदि आप या आपका बच्चा सांस लेते समय खांसी और घरघराहट (सीटी की आवाज) जैसे लक्षण देख रहे हैं, तो आपको अस्थमा का संदेह हो सकता है। ये अस्थमा के सामान्य लक्षण हैं। अस्थमा के लक्षणों की पहचान इस प्रकार की जा सकती है:-Asthma ke lakshan in Hindi.

ट्रिगरिंग कारकों जैसे वायरल संक्रमण (जुकाम), धूल, धुआं, मौसम में बदलाव, या ठंड, घास और पेड़ के पराग, जानवरों के फर और पंख, धूल के कण, साबुन और इत्र के संपर्क में आने पर सांस फूलना (सांस की तकलीफ)।

सायनोसिस (चेहरे और हाथ-पैरों का नीला पड़ना)

सांस लेते समय घरघराहट या सीटी जैसी आवाज आना

सीने में जकड़न, जो छाती के चारों ओर कसे हुए बैंड जैसा महसूस होता है

तीव्र खाँसी या खाँसने की इच्छा जो किसी एलर्जेन या अन्य पर्यावरणीय कारकों से उत्पन्न हो सकती है

अस्थमा के दौरे के दौरान और बाद में थकान

READ ALSO:- तनाव- कारण, लक्षण और उपाय

ये लक्षण ज्यादातर रात के समय में ही होते हैं क्योंकि रात में मौसम दिन की अपेक्षा ठंडा होता हैं। यही कारण है कि आपमें से कुछ लोग दिन के दौरान थकान महसूस कर सकते हैं। अस्थमा के दौरे के दौरान, अगर इलाज न किया जाए तो सांस लेने में कठिनाई बढ़ सकती हैं और सांस की तकलीफ और भी गंभीर हो सकती (Asthma treatment in hindi) है।

अधिकांश डॉक्टर अस्थमा की पहचान आंतरायिक (आता और जाता है) या लगातार (स्थायी) के रूप में करते हैं। लगातार रहने वाला अस्थमा हल्का, मध्यम या गंभीर हो सकता है। स्थिति की गंभीरता Asthma attacks पर आधारित होती है।

अस्थमा के कारण (CAUSES OF ASTHMA IN HINDI)

अस्थमा का सटीक कारण अभी भी ज्ञात नहीं है। यह भी माना जाता है कि यह एक बहुक्रियात्मक विकृति है जो आनुवांशिकी और पर्यावरणीय कारकों दोनों से प्रभावित होती है। आदर्श रूप से, जब आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली किसी एलर्जेन के संपर्क में आती है, तो यह एलर्जेन से लड़ने के लिए एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया उत्पन्न करती है। लेकिन अस्थमा से पीड़ित लोगों में, यह प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया बहुत मजबूत होती है जिससे सूजन हो जाती है। इसके परिणामस्वरूप, वायुमार्ग में सूजन और संकुचन हो जाता है जिससे सांस लेने में कठिनाई होती है।

अस्थमा के दौरे के दौरान, तीन चीजें हो सकती हैं:

ब्रोंकोस्पज़म (Bronchospasm):- Asthma in Hindi

वायुमार्ग के आसपास की मांसपेशियां सिकुड़ती (कसती) हैं। जब वे कड़े हो जाते हैं, तो यह वायुमार्ग को संकीर्ण बना देता है। संकुचित वायुमार्ग से हवा स्वतंत्र रूप से प्रवाहित नहीं हो सकती। इसे BRONCHIAL ASTHMA भी कहते हैं। Bronchial Asthma in Hindi.

सूजन (Inflammation):-Asthma in Hindi

वायुमार्ग की परतें सूज जाती हैं। सूजे हुए वायुमार्ग फेफड़ों में अधिक हवा को अंदर या बाहर नहीं जाने देते।

बलगम का उत्पादन (Mucus production):-Asthma in Hindi

Asthma attack के दौरान, आपका शरीर अधिक बलगम बनाता है। यह गाढ़ा बलगम वायुमार्ग को अवरुद्ध कर देता है।

बच्चों में अस्थमा- ASTHMA IN HINDI

READ ALSO:- क्या आप जानते हैं? एसिडिटी के घरेलू उपाय

Global Initiative for Asthma (GINA) के अनुसार, दुनिया भर में वयस्कों और बच्चों दोनों सहित लगभग 300 मिलियन व्यक्ति अस्थमा से पीड़ित हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, भारत में लगभग 15-20 मिलियन अस्थमा रोगी हैं। ऐसा अनुमान है कि 5-11 वर्ष की आयु के 10-15% बच्चे अस्थमा से पीड़ित हो सकते हैं।

अस्थमा से पीड़ित अधिकांश बच्चों में लंबे समय तक या जब तक उन्हें अस्थमा का दौरा नहीं पड़ता, तब तक इस स्थिति का कोई संकेत या लक्षण दिखाई नहीं दे सकता है। इसके अलावा, ज्यादातर मामलों में, बच्चों में अस्थमा के लक्षणों को अन्य श्वसन संबंधी बीमारियों के साथ भ्रमित किया जा सकता है। इसलिए, बच्चों में अस्थमा का ईलाज (Asthma treatment in hindi) करना काफी कठिन होता हैं और यह केवल लक्षणों पर आधारित है।

बच्चों में अस्थमा के कारण की पहचान करने का कोई ज्ञात तरीका नहीं है। हालाँकि, कुछ अध्ययनों ने कुछ ऐसे कारकों की पहचान की है जो बच्चों में अस्थमा के खतरे को बढ़ा सकते हैं।

गर्भावस्था में अस्थमा- ASTHMA IN HINDI

READ ALSO:- Acidity In Hindi: A Simple Definition

गर्भावस्था में अस्थमा का मतलब है कि माँ को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल रही है। इसका स्वाभाविक रूप से मां, और मां के गर्भ में पल रहे भ्रूण पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। अच्छी तरह से नियंत्रित अस्थमा से सामान्य गर्भावस्था, सामान्य प्रसव और सामान्य बच्चा होता है।

अच्छी तरह से प्रबंधित और अच्छी तरह से नियंत्रित अस्थमा गर्भावस्था और प्रसव के दौरान समस्याएं पैदा नहीं करता है; न मां के लिए और न ही बच्चे के लिए.

अस्थमा के लिए जोखिम कारक(Asthma treatment in hindi)

अस्थमा के कुछ सामान्य ट्रिगर/जोखिम कारकों में शामिल हैं:

आनुवंशिकी (Genetics):- Asthma In Hindi

साक्ष्य बताते हैं कि अस्थमा की उपस्थिति और इसकी गंभीरता किसी व्यक्ति के जीनोम या आनुवंशिक संरचना से प्रभावित हो सकती है।

वायु प्रदूषण (Air Pollution):-Asthma In Hindi

नाइट्रोजन डाइऑक्साइड (Nitrogen Dioxide) और डीजल कणों जैसे बाहरी प्रदूषकों के संपर्क में आने से अस्थमा के लक्षण बढ़ जाते हैं।

आहार (Diet):- Asthma In Hindi

आहार में विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन डी, मैग्नीशियम और सेलेनियम जैसे एंटीऑक्सीडेंट कम होते (asthma ke gharelu upay) हैं और इससे अस्थमा का खतरा भी हो सकता है।

वायरल संक्रमण (Viral infections):- Asthma In Hindi

बचपन के दौरान वायरस के कारण होने वाला श्वसन पथ का संक्रमण वयस्कता में अस्थमा का कारण बन सकता है।

Allergy : – Asthma In Hindi

पर्यावरणीय एलर्जी जैसे पराग धूल या घुन अस्थमा के दौरे को ट्रिगर कर सकते हैं।

दवाएं (Medicines):- Asthma In Hindi

एस्पिरिन और बीटा-ब्लॉकर्स (Beeta Blockers) जैसी दवाएं भी कुछ व्यक्तियों में अस्थमा के दौरे  का कारण बनती हैं।

व्यायाम (Exercise):- Asthma In Hindi

व्यायाम से अस्थमा बढ़ सकता है और सांस लेना मुश्किल हो सकता है।

Chronic Sinusitis:- Asthma In Hindi

साइनसाइटिस के कारण नाक से पानी टपकने से खांसी और गले में खुजली हो सकती है जिससे अस्थमा के लक्षण बढ़ सकते हैं।

कीड़े या पौधे (Insects or Plants):- Asthma In Hindi

कुछ लोगों को कुछ पौधों या कीड़ों से एलर्जी हो सकती है जो अस्थमा के लिए ट्रिगर का काम कर सकते हैं।

मोटापा (Obesity):- Asthma In Hindi

अधिक वजन होने से आपको अस्थमा और इसके लक्षणों जैसे सांस लेने में तकलीफ और घरघराहट का खतरा अधिक होता है।

तनाव (Stress):- Asthma In Hindi

तनाव जैसे भावनात्मक कारक न केवल चिंता बल्कि सांस फूलना जैसे अस्थमा के लक्षण भी पैदा कर सकते हैं।

धुआँ (Smoke):- Asthma In Hindi

धुआँ या धुएं जैसे रासायनिक उत्तेजक पदार्थ भी अस्थमा के लक्षणों जैसे घरघराहट और सांस की तकलीफ का कारण बन सकते हैं।

अस्थमा का निदान-ASTHMA IN HINDI

आमतौर पर अस्थमा का संदेह तब होता है जब रोगी को बार-बार सूखी खांसी होती है, खासकर रात में और सुबह के समय, साथ ही सीने में जकड़न, सांस लेने में तकलीफ और घरघराहट जैसी अन्य लक्षण भी होते हैं। अस्थमा के लिए निम्नलिखित परीक्षण किये जाते हैं:-

  1. शारीरिक परीक्षण (Physical Examination)- Asthma In Hindi

शारीरिक परीक्षण के दौरान, आपका डॉक्टर सूजन या जल निकासी के लिए आपकी आंखों, कान, नाक या गले को देख सकता है जो एलर्जी प्रतिक्रिया का संकेत दे सकता है। इसके अलावा, घरघराहट या सीटी की आवाज़ के लिए अपनी छाती और फेफड़ों की जाँच करें जो वायुमार्ग की सूजन और संकुचन का संकेत दे सकते हैं।

  1. रक्त परीक्षण (Blood Tests):- Asthma In Hindi (laboratory test for asthma)

आपका डॉक्टर सूजन, एंटीबॉडी और ईोसिनोफिल्स (एक प्रकार की प्रतिरक्षा कोशिकाओं) के स्तर की जांच के लिए कुछ रक्त परीक्षणों की सिफारिश कर सकता है। इनमें पूर्ण रक्त गणना (CBC), इम्युनोग्लोबुलिन ई (IgE) और पूर्ण ईोसिनोफिल गिनती (AEC) शामिल हैं।

  1. पल्मोनरी फंक्शन टेस्ट (Pulmonary function test):- Asthma In Hindi

पल्मोनरी या फेफड़े के फंक्शन टेस्ट यह पता लगाने के लिए किए जाते हैं कि कहीं वायुमार्ग में कोई रुकावट तो नहीं है। यदि नैदानिक ​​संदेह है लेकिन फेफड़े का कार्य परीक्षण सामान्य आता है, तो व्यायाम के बाद परीक्षण या एलर्जेन चुनौती परीक्षण जैसे अन्य परीक्षण वयस्कों में ब्रोन्कियल हाइपररेस्पॉन्सिबिलिटी का निर्धारण करने में मदद कर सकते हैं।

  1. छाती का एक्स-रे (Chest X-Ray):- Asthma In Hindi

गंभीर मामलों में, फेफड़ों की अत्यधिक सूजन देखी जा सकती है जिसे छाती के एक्स-रे की मदद से पता लगाया जा सकता है।

  1. एलर्जी पैनल/अस्थमा/राइनाइटिस स्क्रीनिंग टेस्ट (Allergy panel/asthma/rhinitis screening test):- Asthma In Hindi

यदि आपमें अस्थमा के लक्षण दिख रहे हैं और एलर्जी ट्रिगर का संदेह है, तो आमतौर पर एलर्जी निदान की सिफारिश की जाती है। एलर्जी के निदान में चिकित्सा इतिहास, त्वचा की चुभन परीक्षण शामिल हैं।

अस्थमा की रोकथाम-PREVENTION OF ASTHMA IN HINDI

अस्थमा को रोकने का सबसे अच्छा संभव तरीका उन ट्रिगर्स के संपर्क को खत्म करना asthma ke gharelu upay या कम करना है जो अस्थमा के दौरे का कारण बन सकते हैं। अस्थमा के कुछ सामान्य ट्रिगर और उनकी रोकथाम में शामिल हैं:

जानवरों की रूसी, धूल के कण, फफूंद आदि जैसे एलर्जी कारकों से दूर (ASTHMA IN HINDI) रहें।

यदि संभव हो तो जब भी आप धुएं और अन्य परेशान करने वाले धुएं के संपर्क में आएं तो मास्क(asthma ke gharelu upay) पहनें।

अस्थमा से पीड़ित मरीजों को वायरस और अन्य श्वसन संक्रमणों के संपर्क में आने से बचना चाहिए।

अपने हाथों को सावधानी से धोना महत्वपूर्ण है। हर साल अपना फ्लू और/या निमोनिया का टीका लगवाना न भूलें और अस्थमा के दौरे के जोखिम को कम करें।

अस्थमा डायरी बनाए रखें और विशिष्ट ट्रिगर्स को नोट करें ताकि आप अपने डॉक्टर को इनके बारे में सूचित कर सकें और भविष्य में अस्थमा की घटनाओं को कम कर सकें।

Frequently Asked Questions

Q.मुझे कैसे पता चलेगा कि मुझे अस्थमा है?

A. यदि आपको घरघराहट (सीटी की आवाज), छाती में जकड़न , और सांस लेने में तकलीफ और खांसी हो रही हैं । ट्रिगर्स के संपर्क में आने पर ये लक्षण अस्थायी रूप से और बढ़ सकते हैं। यही लक्षण आपको बताते हैं की आपको Asthma हो सकता हैं।

Q.यदि मेरे पास इनहेलर नहीं है अस्थमा के दौरे में मैं क्या करूँ ?

A.यदि आपको लगता है कि आपको अस्थमा का दौरा पड़ रहा है, तो सबसे पहले आपको सीधे बैठने की सलाह दी जाती है क्योंकि इससे आपके वायुमार्ग            (Airways) खुल जाते हैं और आपके डायाफ्राम (Diaphragm) पर दबाव नहीं पड़ता है। आपको धूल जैसे ट्रिगर्स से भी दूर जाना चाहिए और छोटी-छोटी         धीमी सांसें लेने की कोशिश करनी चाहिए।

Q.क्या अस्थमा उम्र के साथ बढ़ता जाता है?

A. अस्थमा किसी भी उम्र में शुरू हो सकता है और परहेज ना करने पर यह उम्र के साथ साथ बढ़ता जाता हैं। मोटापा, हृदय रोग, फेफड़ों के रोग, या किसी          ऑटोइम्यून विकार की उपस्थिति भी बढ़ती उम्र में अस्थमा के विकास के लिए जोखिम कारक होती है। इसीलिये अपने लक्षणों को नजरअंदाज न करें और         समय पर पल्मोनोलॉजिस्ट (Pulmonologist) से सलाह लें।

Q. क्या अस्थमा ठीक हो सकता है?

A. दुर्भाग्य से, अस्थमा को पूरी तरह से ठीक नहीं किया जा सकता परन्तु control जरूर किया जा सकता हैं।  प्रभावी उपचार से आप अपने अस्थमा के लक्षणों      पर पूर्ण नियंत्रण पा सकते हैं। जीवनशैली संबंधी उपायों के साथ-साथ दवाएं आपके लक्षणों (ASTHMA IN HINDI) पर बेहतर नियंत्रण पाने में आपकी मदद कर सकती हैं।

Q. अस्थमा के लिये किन किन डॉक्टर्स को दिखा सकते हैं?

A. Pulmonologist

Allergist or immunologist

Physician

धन्यवाद

यह आर्टीकल आपको कैसा लगा? हमें जरूर बतायेगा, हमें आपके विचारों तथा सुझावों का इंतजार रहेगा। आप हमें सुझाव COMMENT BOX के जरिये भेज सकते हैं।

DISCLAMIER: – HEALTHSWIKI.COM केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए सामान्य जानकारी प्रदान करता है। इस वेबसाइट का उद्देश आपको अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना और स्वास्थ्य से जुडी जानकारी मुहैया कराना हैं। HEALTHSWIKI.COM साइट में दी गई जानकारी, या अन्य साइटों के लिंक के माध्यम से प्राप्त जानकारी, चिकित्सा या पेशेवर देखभाल के लिए एक विकल्प नहीं है। यदि आपको लगता है कि आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है तो आपको तुरंत अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

 

Visited 1 times, 1 visit(s) today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com