Do You Know? Why Asthma Patients Advices “No smoking” / क्या आप जानते हैं? कि अस्थमा के मरीजों को धूम्रपान न करने की सलाह क्यों दी जाती है?

NO SMOKING

नमस्कार दोस्तों ! आज हम बात करेंगे की अस्थमा के मरीजों को “NO SMOKING” की सलाह क्यों दी जाती है?

Table of Contents

NO SMOKING

 

READ MORE:- ASTHMA IN HINDI- A COMPLETE GUIDE / अस्थमा-एक संपूर्ण गाइड

धूम्रपान से अस्थमा पर क्या प्रभाव पड़ते है। 

NO SMOKING

  • अस्थमा(ASTHMA) साँस का एक जटिल रोग है। जिसके उपचार और नियंत्रण के कई उपाय शामिल हैं। इस रोग में प्रमुख रूप से “NO SMOKING” की सलाह दी जाती है, क्योंकि धूम्रपान (SMOKING) अस्थमा के मरीजों के लिए बहुत खतरनाक और जानलेवा भी हो सकता हैं। इस लेख में हम आपको बताएंगे कि धूम्रपान अस्थमा के लिए क्यों नुकसानदायक हो सकता है और अस्थमा रोगियों को इससे बचने के लिए कैसे NO SMOKING की सलाह दी जाती है।
  • धूम्रपान (Smoking) और अस्थमा के सम्बन्ध को समझने से पहले, हमें अस्थमा के बारे में थोड़ी सी जानकारी प्राप्त करनी चाहिए।
  • अस्थमा (ASTHMA) एक श्वसन रोग है। जिसका मुख्य कारण श्वसन नलियों में सूजन होती हैं। यह सूजन श्वसन नलियों को छोटा (Small Airways) और तंग कर देती है, जिससे श्वसन नलियों में हवा के प्रवाह में कठिनाई होती हैं। जिसके कारण रोगी को साँस लेने में बहुत दिक़्कत होती हैं। अस्थमा के मरीजों (Asthmatic Patients) को आमतौर पर दवाओं और उपचार की आवश्यकता होती है।
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार (WHO) दुनिया भर में लगभग 1.25 अरब धूम्रपान करने वाले लोग हैं। जिनमें से लगभग 2/3 आबादी विकासशील देशों में रहती है। दुनिया भर में लगभग 300 मिलियन लोग अस्थमा से प्रभावित हैं और अस्थमा रोगियों का एक बड़ा हिस्सा धूम्रपान करने वालों का है।
  • इसके अलावा, अस्थमा से पीड़ित लोगों में धूम्रपान का प्रचलन सामान्य आबादी के समान है, जो लगभग 20% है। यह ज्ञात है कि धूम्रपान से अस्थमा और उससे जुड़ी स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा बढ़ सकता है, हालांकि, अस्थमा पर धूम्रपान का प्रभाव अधिक गंभीर होता है। यहां हम धूम्रपान के दुष्प्रभावों पर प्रकाश डालेंगे और अस्थमा के रोगियों के लिए No Smoking क्यों अच्छा है।

अस्थमा के रोगियों (Asthmatic Patients) को धूम्रपान (Smoking) से दो तरह की समस्याएं हो सकती हैं:-

  1. धूम्रपान अस्थमा के लक्षणों को बढ़ा सकता है और रोगी के श्वसन नलियों को और अधिक प्रभावित कर सकता है। नियमित धूम्रपान करने से श्वसन नलियों में जटिलताएं पैदा हो सकती हैं, जिससे श्वसन प्रणाली (Respiratory System) और फेफड़ों की स्थिति और भी खराब हो सकती है।
  2. धूम्रपान (Smoking) अस्थमा के लक्षणों को अधिक संवेदनशील बना सकता है। जिससे रोगी को अधिक तकलीफ हो सकती है और उन्हें उच्चतम स्तर की चिकित्सा देखभाल की आवश्यकता हो सकती है।

यदि आपको अस्थमा है तो क्या धूम्रपान करना सुरक्षित है?

  • कई शोध अध्ययनों ने साबित किया है कि धूम्रपान (Smoking) न करने वालों की तुलना में, धूम्रपान करने वालों में अस्थमा होने की संभावना ज्यादा होती है।
  • अस्थमा के लक्षण गंभीर हो जाते हैं जैसे सीने में जकड़न, पुरानी खांसी और थूक का ज्यादा बनना।
  • अस्थमा के लक्षणों पर नियंत्रण ना रहना।
  • वायुमार्ग की सूजन का बढ़ जाना।
  • फेफड़ों की कार्यक्षमता (Lung functions) में कमी।
  • अस्थमा की दवाओं जैसे निगलने वाली दवाओं और साँस के माध्यम से ली जाने वाली कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स (Corticosteroids) के प्रति असंवेदनशीलता।
  • स्वास्थ्य देखभाल केंद्रों और अस्पताल में भर्ती होने की संख्या में वृद्धि।
  • इसलिए, यदि आपको अस्थमा है तो धूम्रपान करना सुरक्षित नहीं है। क्योंकि इससे लक्षण बिगड़ सकते हैं और अस्थमा से संबंधित स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा बढ़ सकता है।
  • इसके अलावा, धूम्रपान का जीवन की गुणवत्ता, फेफड़ों की कार्यप्रणाली (Lung Functions) और दवा के उपयोग पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। अस्थमा से पीड़ित बच्चों में,  अगर वे धूम्रपान करते हैं। तो धूम्रपान(Smoking) से घरघराहट, खांसी और अस्थमा के दौरे का खतरा बढ़ जाता है।

धूम्रपान से जुड़े तथ्य:- सिगरेट के बारे में मिथक (Myths about Cigarettes)

सिगरेट बहुत हानिकारक है, न केवल तम्बाकू से होने वाले नुकसान के कारण, बल्कि इसके कारण निकोटीन (Nicotine) की लत भी लगती हैं। तम्बाकू धूम्रपान के खतरों के बारे में जागरूकता के बावजूद, कई गलत धारणाएँ अभी भी कायम हैं। यहां सिगरेट के बारे में कुछ सबसे आम मिथक हैं। जिनका आपको धूम्रपान छोड़ने की योजना बनाते समय शिकार नहीं होना चाहिए।

कम टार वाली सिगरेट पीना सुरक्षित है- NO SMOKING

हालाँकि आम सिगरेट की तुलना में कम टार वाली सिगरेट थोड़ा कम नुकसान पहुंचाती है। इसके अलावा, जब तक आप कम धूम्रपान करते हैं। तब तक कम टार वाली सिगरेट कम नुकसान पहुंचाती है, जिसका मतलब है कि यदि आप अक्सर धूम्रपान करते हैं तो जोखिम समान रहता है।

इसके अलावा, यह सोचकर की कम टार वाली सिगरेट कम नुकसान करती हैं। कम धूम्रपान करने वाले भी अधिक धूम्रपान करने लगते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि कम टार वाली सिगरेट कम हानिकारक होती है। जिससे अस्थमा सहित स्वास्थ्य संबंधी जटिलताओं का खतरा बढ़ जाता है।

हुक्का पीना सुरक्षित है-NO SMOKING

हमारा भारत गाँवो का देश हैं और हुक्का गाँवो में धूम्रपान का बहुत प्रचलित साधन हैं।

यह एक आमधारणा हैं की धूम्रपान के लिये हुक्का सुरक्षित हैं। परन्तु वास्तव में हुक्के से धूम्रपान करना उतना ही हानिकारक है जितना की सिगरेट या बीड़ी पीना।

अस्थमा के मरीज (Asthmatic Patient) के लिये धूम्रपान (Smoking) जानलेवा हो सकता हैं। फिर वो हुक्के से हो या बीड़ी या सिगरेट से ।  धूम्रपान करने से अस्थमा के लक्षण गंभीर हो सकते हैं और यहां तक ​​कि दौरा भी पड़ सकता है। धुआँ वायुमार्ग (Airway) में जलन पैदा करने का काम करता हैं। धुएं की बड़ी मात्रा फेफड़ों में रासायनिक पदार्थ की परेशानी पैदा कर सकती है, जिसके परिणामस्वरूप फेफड़ों में एलर्जी (Allergy) से ब्रोन्कियल अस्थमा (Bronchial Asthma) होने का सबसे ज्यादा खतरा होता हैं।

हुक्का भी सिगरेट पीने के समान, अस्थमा मरीज के Pulmonary System  पर हानिकारक प्रभाव डालता है। इस प्रकार, हुक्का का उपयोग करने वाले घरघराहट, खांसी, थूक और सांस की तकलीफ जैसे लक्षणों की शिकायत करते हैं । हुक्का का उपयोग करने वाले एक घंटे में लगभग 100 सिगरेट के बराबर का धुआँ अपने अंदर ले लेते हैं। हुक्का नशे की लत है।

 

अपना स्वयं का तम्बाकू रोल करना अधिक सुरक्षित है-NO SMOKING

न्यूज़ीलैंड में किए गए एक अध्ययन में नियमित धूम्रपान (Smoking) करने वालों के साथ-साथ अपनी खुद की सिगरेट बनाने वाले धूम्रपान करने वालों का अध्ययन किया गया, जिसमें पाया गया:-

धूम्रपान करने वालों की धूम्रपान की आदतों में कोई बदलाव नहीं आया और उन्होंने अपनी सिगरेट खुद ही रोल या बनाना करना शुरू कर दी।

जो धूम्रपान करने वाले अपनी खुद की सिगरेट बनाते हैं या रोल करते हैं। वे प्रति सिगरेट अधिक धुआं अंदर लेते हैं।

फ़िल्टर के साथ भी, उनसे होने वाले नुकसान की मात्रा में कोई स्पष्ट कमी नहीं होती है।

रोल-योर-ओन सिगरेट में कार्बन मोनोऑक्साइड (Carbon Monoxide) का स्तर पैकेज्ड सिगरेट के समान था।

एक और दिलचस्प तथ्य यह है कि धूम्रपान (Smoking) पाइप का उपयोग करना रोल-योर-सिगरेट से कम हानिकारक नहीं है। क्योंकि धूम्रपान करने वाले तंबाकू के दोनों रूपों में समान ही स्वास्थ्य जोखिम होता है।

 

कम सिगरेट पीना कम हानिकारक होता है-NO SMOKING

हालांकि यह तार्किक अर्थ रखता है। लेकिन शोध इससे सहमत नहीं है। नॉर्वे में आयोजित एक बड़े पैमाने पर 32 वर्षों के दौरान 42,000 से अधिक धूम्रपान करने वालों का अध्ययन किया गया। अध्ययन ने निष्कर्ष निकाला कि दिन में 1-4 सिगरेट पीने वाले धूम्रपान करने वालों में जोखिम धूम्रपान (Smoking) न करने वालों और धूम्रपान छोड़ चुके लोगों की तुलना में काफी अधिक था।

इसलिए, जबकि एक दिन में 20 सिगरेट पीना पांच सिगरेट पीने की तुलना में अधिक हानिकारक है। धूम्रपान न करने वालों की तुलना में कुल मिलाकर अंतर लापरवाही भरा है। दिन में एक भी सिगरेट पीने से फेफड़ों के विकार, कैंसर (Cancer) और हृदय रोगों (Heart Disease) का खतरा काफी बढ़ जाता है।

 

मेन्थॉल और लाइटें कम हानिकारक हैं-NO SMOKING

NO SMOKING

 

READ MORE:- PET DARD KA ILAJ / पेट दर्द का ईलाज

अध्ययनों ने बार-बार साबित किया है कि सिगरेट के डिज़ाइन या स्वाद को बदलने से तम्बाकू धूम्रपान का खतरा कम नहीं होता है। धूम्रपान के जोखिम को कम करने का एकमात्र प्रभावी तरीका पूरी तरह से छोड़ना है। कहा जाता है कि थोड़े समय के लिए सिगरेट पीने की तुलना में ई-सिगरेट (E-Cigrette) तुलनात्मक रूप से अधिक सुरक्षित है। हालाँकि, अस्थमा से पीड़ित धूम्रपान करने वालों के लिए ई-सिगरेट (E-Cigrette) के उपयोग और समग्र स्वास्थ्य पर इसके प्रभाव पर बहुत अधिक शोध नहीं किया गया है।

अस्थमा रोगियों (Asthmatic Patients) के लिए धूम्रपान बंद करने का प्रभाव

यह तथ्य कि धूम्रपान (Smoking) का समग्र स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव पड़ता है। धूम्रपान छोड़ने की आवश्यकता है, यहां तक कि हल्के अस्थमा वाले लोगों में भी। हालाँकि, अस्थमा से पीड़ित कई धूम्रपान करने वाले यह नहीं मानते हैं कि धूम्रपान के कारण उन्हें व्यक्तिगत रूप से कोई खतरा है। लेकिन वास्तव में, धूम्रपान बंद करने से अस्थमा वाले रोगियों में निम्नलिखित सुधार होते हैं:

-फेफड़ों की कार्यप्रणाली (Lungs Function) में सुधार आता हैं और उनके फेफड़े (Lungs) अपनी पूरी क्षमता से काम कर पाते हैं। जिनसे उनको साँस लेने में आसानी होती हैं।

-अस्थमा के लक्षणों में सुधार होता हैं, जैसे खांसी का ठीक होना, बलगम कम बनना और साँस लेने में सुविधा होना।

– अस्थमा की स्थिति पर बेहतर नियंत्रण।

-जीवन की गुणवत्ता में उल्लेखनीय सुधार।

धूम्रपान से उत्पन्न होने वाली धुआं में कई तत्व होते हैं, जैसे कि निकोटीन (Nicotine), कार्बन मोनोक्साइड (Carbon Monoxide), और अन्य जहरीले तत्व। ये तत्व श्वसन प्रणाली के लिए विषाक्त होते हैं और यहां तक कि इनके संपर्क में आने पर श्वसन नलियों के माध्यम से अस्थमा के रोगी को तकलीफ पहुंच सकती है।

ये तत्व श्वसन नलियों को संकुचित कर देते हैं और हवा के प्रवाह में बाधा डालते हैं। जिससे जिसके कारण रोगी को साँस लेने में बहुत दिक़्कत होती हैं। इसके परिणामस्वरूप, धूम्रपान (Smoking) अस्थमा के लक्षणों में वृद्धि कर सकता है और श्वसन की समस्याएं और गंभीर हो सकती हैं। जिसके कारण तुरंत आराम के लिये HOSPITAL में ADMIT तक होना पड़ सकता हैं।

यह बात ध्यान देने योग्य है कि अस्थमा के मरीजों की प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) भी कमजोर हो सकती है। इसलिए, यदि धूम्रपान (Smoking) करने वाले व्यक्ति के आसपास भी अगर अस्थमा का मरीज हो तो सिगरेट या बीड़ी का धुआँ अस्थमा के मरीज के श्वसन प्रणाली (Respiratory System) को अधिक प्रभावित कर सकता है। और तकलीफ को बढ़ा सकता है।

अस्थमा के मरीजों को धूम्रपान (Smoking) से बचने के लिए विभिन्न उपाय हैं।

  1. अस्थमा रोगी को अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए। उनके चिकित्सक से यह जानना चाहिए कि धूम्रपान (Smoking) से उनकी स्थिति कैसे प्रभावित हो सकती है और धूम्रपान (Smoking) से बचने के लिए कौनसे उपाय अधिक प्रभावी हो सकते हैं।
  2. अस्थमा के मरीजों को धूम्रपान करने वाले व्यक्तियों से दूरी बनाए रखनी चाहिए। सार्वजनिक स्थानों पर अस्थमा के मरीज़ को अपना मुख मास्क से ढक कर रखना चाहिये जिससे धुआँ या धूलकण उसे परेशान ना कर सके और धुआं का संपर्क अस्थमा रोगी के साथ न हो। इसके अलावा, अस्थमा के मरीजों को शुद्ध वातावरण में रहना चाहिये और धूम्रपान करने वाले व्यक्तियों को धूम्रपान (Smoking) करने के लिए विशेष स्थानों का चयन करना चाहिए।
  3. अस्थमा रोगियों (Asthmatic Patients) को अपनी दवाओं का नियमित रूप से सेवन करना चाहिए और अपने चिकित्सक के निर्देशों का पालन करना चाहिए। ये दवाएं रोगी की प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) को बढ़ा सकती हैं और धूम्रपान (Smoking) के संपर्क से होने वाली संभावित तकलीफों को कम कर सकती हैं।

धूम्रपान अस्थमा के मरीजों (Asthmatic Patients) के लिए खतरनाक हो सकता है और इसलिए NO SMOKING की सलाह दी जाती है। इसके लिए उपरोक्त उपायों का पालन करना चाहिए। NO SMOKING अपनाकर अस्थमा के मरीज अपनी स्वास्थ्य स्थिति को सुधार सकते हैं और जीवन की गुणवत्ता को बढ़ा सकते हैं।

धूम्रपान की आदत से छुटकारा पाने के लिए यह महत्वपूर्ण है कि अस्थमा के मरीज अपनी मनोदशा को नियंत्रित करें और उपयुक्त सहायता प्राप्त करें। चिकित्सा संगठनों और गैर सरकारी संगठनों की मदद ले सकते हैं, और अपने परिवार और दोस्तों से मदद ले सकते हैं। यह मानवीय संबंध और सहयोग उन्हें धूम्रपान से दूर रहने में मदद कर सकते हैं। और उन्हें स्वस्थ जीवन शैली के लिए प्रेरित कर सकते हैं।

संक्षेप में कहें तो, अस्थमा के मरीजों को No Smoking की सलाह दी जाती है क्योंकि धूम्रपान इस रोग की स्थिति को और बिगाड़ सकता है। श्वसन प्रणाली (Respiratory System) को प्रभावित कर सकता है, और रोगी को तकलीफ पहुंचा सकता है। इसलिए, अस्थमा रोगियों (Asthmatic Patients) को NO SMOKING और उपचार के अन्य मार्गों का पालन करने की सलाह दी जाती है। यह उनकी स्वास्थ्य स्थिति को सुधार सकता है, उन्हें तकलीफ से बचा सकता है, और उनकी जीवन गुणवत्ता को बढ़ा सकता है।

FREQUENTLY ASKED QUESTIONS

क्या अस्थमा मरीज़ के लिये हुक्का पीना सुरक्षित हैं ?

अस्थमा patients के लिये हुक्का पीना उतना ही हानिकारक है जितना की सिगरेट या बीड़ी पीना क्योंकि धूम्रपान अस्थमा के मरीजों में लक्षणों को और ज्यादा बढ़ा और गंभीर कर देता हैं

धन्यवाद

यह आर्टीकल आपको कैसा लगा? हमें जरूर बतायेगा, हमें आपके विचारों तथा सुझावों का इंतजार रहेगा। आप हमें सुझाव COMMENT BOX के जरिये भेज सकते हैं।

DISCLAMIER: – HEALTHSWIKI.COM केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए सामान्य जानकारी प्रदान करता है। इस वेबसाइट का उद्देश आपको अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना और स्वास्थ्य से जुडी जानकारी मुहैया कराना हैं। HEALTHSWIKI.COM साइट में दी गई जानकारी, या अन्य साइटों के लिंक के माध्यम से प्राप्त जानकारी, चिकित्सा या पेशेवर देखभाल के लिए एक विकल्प नहीं है। यदि आपको लगता है कि आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है तो आपको तुरंत अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

 

Visited 2 times, 1 visit(s) today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com