Bloating in Hindi / पेट फूलना या पेट की सूजन

Bloating in Hindi

नमस्कार दोस्तों ! आज हम बात करेंगे BLOATING IN HINDI के बारे में।  इस आर्टिकल में हम BLOATING के बारे में विस्तार से जान पायेंगे जैसे BLOATING क्या होता हैं? BLOATING के लक्षण और कारण क्या – क्या होते हैं ?

BLOATING IN HINDI

 

Bloating in Hindi
Bloating in Hindi

READ ALSO:- कब्ज ? – कारण, लक्षण, रोकथाम, जांच और इलाज

What is Bloating? ब्लोटिंग क्या है?- Bloating in Hindi

ब्लोटिंग को पेट की गैस, डकार, पेट फूलना और पेट में फैलाव या सूजन के नाम से भी जाना जाता है।

बहुत से लोग गैस की समस्या के बारे में शिकायत करते हैं लेकिन इसे गंभीरता से नहीं लेते क्योंकि उन्हें लगता है कि लोग क्या कहेंगे या उन्हें इसके बारे में बताने में शर्म महसूस होती हैं। लेकिन इस सामान्य पाचन शारीरिक प्रक्रिया के बारे में आपको बहुत कुछ जानने की जरूरत है।

गैस शरीर में होने वाली सामान्य पाचन प्रक्रिया के बाद में उत्पन्न होती है। अतिरिक्त गैस या तो पाद (FART)  के रूप में आंत के माध्यम से या ‘डकार’ (Belching) के रूप में श्वासनली के माध्यम से निकल जाती है। कुछ मामलों में, यह गैस  पाचन तंत्र में भी बनी रह सकती है और असामान्य रूप से पेट की  सूजन या पेट फूलने का कारण बन सकती है।

आमतौर पर, आंतों की गैस से कोई चिकित्सीय समस्या नहीं होती है और यह एक सामान्य घटना है। लेकिन कभी-कभी, यह शरीर की किसी अंदरूनी बीमारी का लक्षण हो सकता है जैसे चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम (Irritable Bowel Syndrome (IBS), कुअवशोषण सिंड्रोम (Malabsorption Syndrome), क्रोहन रोग (Crohn’s Disease ), सूजन आंत्र सिंड्रोम (Inflammatory Bowel Syndrome), आंत्र रुकावट (Bowel Obstruction) आदि।-Bloating in Hindi

अतिरिक्त गैस बनने का इलाज ओवर-द-काउंटर (OTC ) दवाओं और कुछ प्रिस्क्रिप्शन दवाओं (Prescription Medications) से किया जा सकता है जो पेट या आंतो की सूजन को कम करने के साथ साथ और पाचन में सुधार करने में भी मदद करते हैं। स्वस्थ आहार (Healthy Diet) और हल्के व्यायाम (Light Exercises)  के रूप में जीवनशैली में बदलाव भी Bloating के लक्षणों को कम कर सकते है।

पेट की  सूजन या पेट फूलने की समस्या किसी भी उम्र में हो सकती है । यह महिला और पुरुष दोनों को हो सकती है।

हमारे शरीर के चार हिस्से पेट की  सूजन या पेट फूलने की समस्या में शामिल होते हैं जैसे पेट (Stomach) , बड़ी आंत (Large Intestine) , छोटी आंत (Small Intestine) और भोजन नली (Esophagus)। Bloating in Hindi

अम्लता (Acidity), अपच (Indigestion), चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम (Irritable Bowel Syndrome (IBS),  सूजन आंत्र रोग (Inflammatory Bowel Disease (IBD) और गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स रोग (Gastroesophageal Reflux Disease (GERD) ये कुछ ऐसी बीमारियां हैं जिनमे कुछ लक्षण ब्लोटिंग के समान ही होते हैं जिसमें Main हैं गैस बनना

Symptoms of Bloating/ पेट की सूजन के लक्षण-Bloating In Hindi

पेट का ज्यादा भरा हुआ या सामान्य से बड़ा महसूस होना

पेट में दर्द या बेचैनी महसूस होना

पेट में गुड़गुड़ की आवाज़ महसूस होना

सामान्य से अधिक गैस निकलना या पाद आना

पेट में भारीपन लगना

खट्टी डकारें आना

मुँह से गन्दी बदबू आना

Causes of Bloating / सूजन के कारण-Bloating In Hindi

यह सामान्य पाचन प्रक्रिया है जो भोजन को, मुख्य रूप से स्टार्च (Starch) और सेल्युलोज (Cellulose) युक्त भोजन को पचने में आसान घुलनशील रूप में तोड़ देती है, जिसके परिणामसवरुप गैस निकलती है।

हालाँकि, कुछ स्थितियों के परिणामस्वरूप अत्यधिक गैस बन सकती है, जो परेशान करने वाले लक्षण पैदा कर सकती है। उदाहरण के लिए:-

कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों का अधिक मात्रा में सेवन करना जो छोटी आंत में आसानी से पच नहीं पाते , जैसे बीन्स(Beans), पत्तागोभी (Cabbage), फूलगोभी (Cauliflower), ब्रोकोली (Broccoli), अनाज (Grains) आदि।

बासी भोजन (Stale Food) या अधपका भोजन (Undercooked Food) खाने से आंत में अत्यधिक किण्वन (Fermentation) होता है, जिसके परिणामस्वरूप दुर्गंधयुक्त गैसें (Foul Smelling Gases) निकलती हैं।

जो लोग लैक्टोज या , दूध और डेयरी उत्पादों को नहीं पचा पाते हैं उन्हें भी इस के सेवन से अपच और अतिरिक्त गैस का निर्माण होता है और आंतों में सूजन भी आ सकती हैं ।

खाना खाते समय बहुत अधिक हवा निगलना। हवा मुंह के माध्यम से पेट में प्रवेश करती है और भोजन के साथ मिल जाती है, और शायद डकार के माध्यम से निकल भी जाती है। Bloating in Hindi

वातित पेय पदार्थों (Aerated Beverages) का सेवन करने से पेट में अत्यधिक गैस बनने लगती है जो ज्यादा डकार आने का कारण बन सकती है।

कुछ प्रोटीन (Proteins) और मल्टीविटामिन सप्लीमेंट (Multivitamin Supplement) और कृत्रिम मिठास (Artificial Sweeteners) भी अत्यधिक गैस बनने  का कारण बन सकते हैं।

छोटी आंत में बैक्टीरिया की अतिवृद्धि (Bacterial Overgrowth)  एक ऐसी स्थिति है जिसमें आंतों के रोगाणुओं (Intestinal Microbes) की संख्या बढ़ जाती है जिसके कारण भोजन का टूटना बढ़ जाता है और ज्यादा गैस बनने लगती हैं और आंतों में सूजन भी आ जाती है।

पुरानी कब्ज या आंतों की रुकावट के कारण भी अत्यधिक गैस बन सकती है, क्योंकि भोजन लंबे समय तक आंतों में रहता है, जिससे यह खराब हो जाता है और सड़ी हुई गंध छोड़ता है।

Risk Factors For Bloating (पेट की  सूजन या पेट फूलने के जोखिम कारक)-Bloating In Hindi

बढ़ती उम्र (Increasing age) :-

बढ़ती उम्र के साथ-साथ, शरीर का पाचन तंत्र भी  कमजोर हो जाता है और साधारण भोजन के सेवन से भी पेट फूलने की संभावना बढ़ जाती है । जिसका कारण भोजन का अच्छे से ना पचना होता हैं जिसके कारण गैस ज्यादा बनने लगती हैं ।

READ ALSO:- CERVICAL PAIN IN HINDI

भारी भोजन (Heavy meals):-

आवश्यकता से अधिक भोजन करने या ज्यादा तला हुआ भोजन करने से भी हमारे पाचन तंत्र पर बूरा असर पड़ता हैं और भोजन पूरी तरह से नहीं पच पाता हैं और गैस उत्पन्न करने लगता हैं । जिसके कारण हमें Bloating यानि पेट फूलने की समस्या होने लगती हैं ।

पूरे दिन छोटे-छोटे हिस्से में खाने के बजाय हम एक बार में बहुत ज्यादा खाना खा जाते हैं । जिसके कारण भी हमें Bloating की Problem हो जाती हैं ।

 Bloating due to  take Heavy meals
Bloating in Hindi

READ ALSO:- Anxiety in Hindi

गर्भावस्था (Pregnancy) :-

गर्भावस्था के कारण अत्यधिक गैस बन सकती है क्योंकि गर्भाशय बढ़ता है और आंतों पर दबाव डालता है। जिसके कारण भोजन पूरी तरह से नहीं पच पाता हैं । जिसके कारण Bloating की समस्या होती हैं और उल्टी भी हो सकती हैं ।

गतिहीन जीवनशैली (Sedentary lifestyle):-

Bloating की समस्या हमारी गलत जीवनशैली के कारण भी हो सकती हैं । सारा-सारा दिन एक ही स्थान पर बैठे रह कर गुजार देना भी Bloating की समस्या का प्रमुख कारण होता हैं ।-Bloating in Hindi

गतिहीन जीवनशैली जीने से भी पाचन संबंधी समस्याओं का खतरा बढ़ जाता है और गैस ज्यादा बनने लगती हैं । क्योंकि खाना खाने के बाद कुछ देर तक टहलना बहुत जरूरी होता हैं । जिससे खाना अच्छी प्रकार और पूरी तरह से पच जाता हैं । Bloating in Hindi

भोजन के पूरी तरह से पचने से पेट में गैस बनने की समस्या पैदा नहीं होती हैं और हम Bloating की समस्या से बच सकते हैं ।

आमतौर पर, आंतों की गैस से कोई चिकित्सीय समस्या नहीं होती है और यह एक सामान्य घटना है। हालाँकि, यदि अन्य गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल लक्षणों (Gastrointestinal Symptoms), जैसे सीने में जलन, हाइपरएसिडिटी आदि के साथ-साथ प्रतिदिन अत्यधिक गैस का निर्माण होता है, तो डॉक्टर को दिखाना आवश्यक हो जाता है। Bloating किसी दूसरी बीमारी का लक्षण भी हो सकता हैं । जिससे हमें समय रहते उस बीमारी का पता लगाने में मदद मिलती हैं ।

गैस कुछ बीमारियों में एक सामान्य लक्षण के रूप में  पाया जाता है:

लैक्टोज असहिष्णुता (Lactose intolerance):-

इस स्थिति में हमारा पाचन तंत्र  दूध और दूध उत्पादों में मौजूद लैक्टोज को नहीं पचा पाता है। जिसके कारण दूध और दूध से बने उत्पादों के सेवन से अपच(indigestion ), सूजन(Bloating) , दस्त(Diarrhea)  और पेट फूलने (Flatulence) की समस्या होती है। क्योंकि यह lactose हमारी आंतों में जमा होने लगता हैं और सड़ने लगता हैं। जिसके कारण गैस बनने लगती हैं ।

जीईआरडी (Gastroesophageal Reflux Disease):-

यह एक पुरानी स्थिति है जहां पेट से एसिड पाचन तंत्र में वापस आ जाता है। लगातार डकार आना GERD का लक्षण हो सकता है।

आईबीएस (Irritable Bowel Syndrome):-

इस स्थिति में सूजन, दस्त और पेट में अत्यधिक गैस जैसे लक्षण दिखाई देते हैं जो बड़ी आंत को बहुत प्रभावित करते हैं।

सीलिएक रोग (Celiac disease):-

इस स्थिति में, शरीर गेहूं और जौ जैसे अनाज में पाए जाने वाले ग्लूटेन नामक प्रोटीन के प्रति बहुत सवेदनशील हो जाता हैं और असामान्य रूप से प्रतिक्रिया करता है। सूजन, दस्त और अधिक गैस बनना इस बीमारी के प्रमुख  लक्षण हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs):-Bloating In Hindi

प्रश्न:- क्या गैस निकलना सामान्य है?-Bloating in Hindi 

उत्तर :- हाँ। दिन में 10-20 बार गैस पास करना या पाद आना सामान्य माना जाता है। इसके लिए आपको चिंता करने की जरूरत नहीं हैं तथा किसी इलाज की भी जरूरत नहीं है. कुछ लोगों को दूसरों की तुलना में अधिक पाद आते हैं या बार – बार गैस पास होती है।

गैस या पेट फूलना तब चिंता का विषय माना जाता है जब इसके साथ अन्य लक्षण जैसे पेट का दर्द, दस्त, मतली, उल्टी आदि होते हैं। यदि आपको इन अन्य लक्षणों के साथ bloating की पुरानी समस्या है तो आपको जरूर डॉक्टर को दिखाना चाहिये । Bloating in Hindi

प्रश्न :- Bloating की समस्या में किन खाद्य पदार्थों से परहेज करना चाहिए?-Bloating in Hindi 

उत्तर :-यदि आप अतिरिक्त गैस से पीड़ित हैं, तो आपको वातित पेय पदार्थ और ऐसे खाद्य पदार्थ पीने से बचना चाहिए जिनमें कार्बोहाइड्रेट और स्टार्च की मात्रा ज्यादा होती   हैं। कार्बोनेटेड पेय जैसे Carbonated water , सोडा, कोला आदि से बचें क्योंकि ये bloating यानि पेट फूलने की समस्या को और बढ़ाते हैं।

यदि आप लैक्टोज असहिष्णुता (lactose intolerance) से पीड़ित हैं तो आपको दूध और दूध से बने उत्पादों का सेवन नहीं करना चाहिये । इसके बजाय, सोया दूध या बादाम दूध जैसे शाकाहारी दूध स्रोतों का सेवन कर सकते हैं । ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन कम करें जो अतिरिक्त गैस बनाने के लिए जाने जाते हैं जैसे ब्रोकोली, बीन्स, पत्तागोभी, दाल आदि।

आपको यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि एक बार में भारी भोजन न करें जैसे तला हुआ और ज्यादा मसालेदार भोजन । भोजन को छोटे-छोटे हिस्सों में बांटना और दिन भर में बार-बार खाना बेहतर है। इसके अलावा, अपने शराब का सेवन सीमित करें। बार-बार च्युइंग गम चबाने से भी पेट फूलने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए, यदि आप बार-बार गैस से पीड़ित हैं, तो च्युइंग गम से बचना बेहतर है।

प्रश्न:- क्या ओटीसी दवाएं (OTC Medicines) गैस से तुरंत राहत देती हैं?-Bloating in Hindi 

उत्तर :- हां, जिन ओवर-द-काउंटर दवाइओं में सिमेथिकोन (Simethicone) होता हैं वे   गैस और Bloating के लक्षणों से तत्काल राहत प्रदान कर सकती है। इन OTC दवाईओं में सोडा-बाइकार्बोनेट होता है जो एक एंटासिड (Antacid) है जो पेट के एसिड को निष्क्रिय करने का काम करता है।

हालाँकि, आपको इन ओटीसी दवाओं को पैकेजिंग पर दिए गए निर्देशों के अनुसार ही लेना चाहिए और जितनी खुराक बताई गई हैं उससे अधिक नहीं लेना चाहिए क्योंकि इससे फ़ायदे की जगह नुकसान भी  हो सकता है।

प्रश्न:- घरेलू उपचार से गैस को कैसे दूर किया जा सकता हैं ?-Bloating in Hindi 

उत्तर:- यदि आपको अत्यधिक गैस है, तो इसे छोड़ने से यानि पाद मारने से आपको आराम महसूस हो सकता हैं  और Bloating से बचने में मदद मिल सकती है। आप मल त्यागने का भी प्रयास कर सकते हैं क्योंकि इससे आपकी आंत खाली हो जाती  है और गैस ख़त्म हो जाती है।

आप Bloating के लक्षणों को कम करने के लिए अपने पेट के बल लेटने की कोशिश कर सकते हैं या  पवनमुक्तासन जैसे सरल व्यायाम करने या तेज सैर करने से भी गैस से राहत मिल सकती है। गैस और अपच से राहत पाने के लिए कुछ खाद्य पदार्थ जैसे हींग की गोलियाँ, अदरक कैंडी, जीरा पाउडर आदि लिए जा सकते हैं। Bloating in Hindi

 

धन्यवाद

यह आर्टीकल आपको कैसा लगा? हमें जरूर बतायेगा, हमें आपके विचारों तथा सुझावों का इंतजार रहेगा। आप हमें सुझाव COMMENT BOX के जरिये भेज सकते हैं।

DISCLAMIER: – HEALTHSWIKI.COM केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए सामान्य जानकारी प्रदान करता है। इस वेबसाइट का उद्देश आपको अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना और स्वास्थ्य से जुडी जानकारी मुहैया कराना हैं। HEALTHSWIKI.COM साइट में दी गई जानकारी, या अन्य साइटों के लिंक के माध्यम से प्राप्त जानकारी, चिकित्सा या पेशेवर देखभाल के लिए एक विकल्प नहीं है। यदि आपको लगता है कि आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है तो आपको तुरंत अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

 

Visited 8 times, 1 visit(s) today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com