Porridge in Hindi / क्या आप जानते हैं दलिया खाने के 9 फ़ायदे

नमस्कार दोस्तों ! आज हम बात करेंगे Porridge in Hindi यानि दलिया के बारे में जो हमारे जीवन का एक महतवपूर्ण पौष्टिक आहार हैं।

Table of Contents

Porridge in Hindi

Porridege
Porridege in Hindi

READ MPRE:-  VEGETARIAN PROTEIN FOOD 

पोरिज़ (Porridge) या  दलिया एक पारंपरिक भारतीय खाद्य पदार्थ है। जो देश भर में बड़े चाव से खाया जाता है। इसे दलिया के नाम से भी जाना जाता है। यह एक स्वादिष्ट, पौष्टिक और सुपाच्य आहार विकल्प है।

दलिया या पोरिज़ (Porridge) में अनेक स्वास्थ्यवर्धक गुण होते हैं। भारत में विशेषकर यह गेहूं के दाने से बनाया जाता है परन्तु कई जगह इसे धान के दाने और मक्का से भी बनाया जाता हैं और विभिन्न तरीकों से तैयार किया जाता है। दलिया के सेवन से शरीर को ऊर्जा मिलती है। इसमें फाइबर भरपूर मात्रा में होता है और इसका नियमित सेवन आपके स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में बहुत मदद करता है

दलिया प्रोटीन और फाइबर से भरपूर एक हल्का आहार है। दलिया फिटनेस के चाहने वालों से लेकर डायबिटीज और ह्रदय रोगियों तक के लिए एक पसंदीदा आहार हैरिसर्चगेट में किए गए एक शोध से पता चलता हैं की दलिया कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, फोलेट, जिंक, पोटेशियम, थायमिन और कई प्रकार के मिनरल्स और विटामिंस का एक महत्वपूर्ण स्रोत है।

दलिये या पोरिज़ का इतिहास (History of Porridge or Daliya):- Porridge in Hindi

दलिये या पोरिज़ का उल्लेख महाभारत काल से मिलता है। इसे दलिया के नाम से भी जाना जाता है। यह भारतीय खाद्य पदार्थ बहुत प्राचीन काल से ही बनता आया है और विभिन्न राज्यों में इसके विभिन्न स्वाद मिलते हैं। विभिन्न राज्यों में पोरिज़ को अलग-अलग नामों से जाना जाता है, जैसे – दलिया (Dalia) उत्तर भारत में, खिचड़ी (Khichdi) पंजाब में, पोंगल (Pongal) तमिलनाडु में और बिसिबेले बाथ (Bisi Bele Bath) कर्नाटक में।

पोरिज़ या दलिये के प्रकार:-Porridge in Hindi

दलिया विभिन्न तरीकों से बनाया जा सकता है और यह भोजन का मुख्य भाग या नाश्ता के रूप में सेवन किया जा सकता है। दलिया 3 प्रकार का होता हैं जैसे :-

गेहूं का दलिया (Wheat Daliya or Porridge):-Porridge in Hindi

इसे गेहूं के दानों से बनाया जाता है और इसमें विभिन्न सब्जियों और मसालों का उपयोग किया जाता है। यह एक संपूर्ण भोजन है। इसे दोपहर के वक्त खाया जा सकता है। इसको नाश्ते के रूप में भी प्रयोग कर सकते हैं। जिनको पेट सम्बन्धी समस्याएं ज्यादा परेशान करती हैं उनके लिये दलिया बहुत लाभदायक होता हैं

चावल का दलिया (Rice Daliya or Porridge) :- Porridge in Hindi

यह पोरिज़ का सबसे प्रसिद्ध प्रकार है। इसे चावल और दूध या पानी के साथ बनाया जाता है। इसमें स्वादानुसार  चीनी भी मिला सकते हैं। यह सुबह के नाश्ते के रूप में खाया जाता है।

मक्के का दलिया (Corn Daliya or Porridge):-Porridge in Hindi

Corn Daliya or Porridge
Porridge in Hindi

READ ALSO:- Healthy Diet Plan For Obesity

इसे मक्के के दानों से बनाया जाता है और इसमें हरी मिर्च, प्याज़, टमाटर और मसालों का उपयोग किया जाता है। यह एक स्वादिष्ट और पौष्टिक विकल्प है। मुख्य भोजन के रूप में दलिये का सेवन किया जा सकता है।

 

दलिया या पोरिज़ के लाभ (Benefits of Daliya or Porridge):-Porridge in Hindi

पोरिज़ या दलिया एक स्वास्थ्यवर्धक और पौष्टिक आहार है, जो विभिन्न पोषक तत्वों से भरपूर होता है। इसमें विटामिन, मिनरल, प्रोटीन, फाइबर,  आयरन, और कई अन्य पोषक तत्व पाए जाते हैं जो शरीर के सामान्य स्वास्थ्य को बढ़ाने में मदद करते हैं। पोरिज़ के कुछ प्रमुख लाभ निम्नलिखित हैं:-

  • डायबिटीज़ को निंयत्रित करता है (Controls Diabetes)
  • आँतों की सेहत को सुधरता हैं (Improves Gut Health)
  • हड्डियों को मजबूत करता हैं (Strengthens Bones)
  • रक्तचाप को कम करता है (Lowers Blood Pressure)
  • कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करता है (Regulates Cholesterol)
  • हृदय की सेहत को सुधारता है(Improves Heart Health)
  • वजन नियंत्रण में मदद करता है(Helps with Weight Control)
  • ऊर्जा का स्रोत (Source of Energy)
  • हीमोग्लोबिन बढ़ाता है (Increases Hemoglobin)

 

1.डायबिटीज़ को निंयत्रित करता है (Controls Diabetes)    Porridge in Hindi 

दलिया या Porridge के नियमित सेवन से रक्त शर्करा (Blood Glucose) के स्तर को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है और दलिया डायबिटीज़ के प्रबंधन में सहायक सिद्ध हो सकता है।

मधुमेह या डायबिटीज एक गंभीर रोग है जो शरीर के रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ा देता है। यह रोग अगर नियंत्रित न रहे तो दिल, किडनी, आंखें और Nervous system को नुकसान पहुंचाता है। इसे नियंत्रित करने के लिए उचित आहार और व्यायाम का महत्वपूर्ण योगदान होता है।

दलिया या Porridge एक ऐसा स्वादिष्ट और पौष्टिक व्यंजन है जो Diabetes patients  के लिए भी उपयुक्त होता है। ओट्स में फाइबर, प्रोटीन, विटामिन, खनिज और अन्य पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो आपके स्वास्थ्य को सुधारने में मदद कर सकते हैं। लेकिन मधुमेह के मरीजों को दलिया का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह ज़रूर लेनी चाहिए।

 

दलिये का ग्लाइसीमिक इंडेक्स (GI) कम होता है। ग्लाइसीमिक इंडेक्स (GI) एक माप है जो खाद्य पदार्थ के शर्करा (Glucose) के स्तर को दर्शाता है। ग्लाइसीमिक इंडेक्स (GI) कम होने के कारण दलिये का सेवन रक्त शर्करा (Blood Glucose)  को तेजी से बढ़ने से रोकता है।

दलिया फाइबर से भरपूर होता हैं जो डायबिटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद होता है। फाइबर के सेवन से खाना अच्छी प्रकार से पचता है और रक्त शर्करा(Blood Glucose) के स्तर को नियंत्रित रखने में मदद मिलती है।

दलिया बहुत पौष्टिक होता हैं। इसमें विटामिन, प्रोटीन, फॉस्फोरस, मैग्नीशियम, आयरन और अन्य पोषक तत्व होते हैं जो शरीर के स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करते हैं। ये सभी पौषक तत्व हमरे Nervous system को भी स्वस्थ बनाये रखते हैं।

Diabetes patients को दलिये के सेवन में कुछ सावधानियां भी रखनी चाहिये जैसे:-

खाने की मात्रा का ध्यान रखें: दलिये का सेवन करने से पहले, अपने डॉक्टर से ये जरूर पूछ लें  कि आपको इसे कितनी मात्रा में और कितनी बार दलिया खाना चाहिए

चीनी की मात्रा कम करें: यदि आप Diabetes patients हैं, तो आपको अधिक मात्रा में चीनी का उपयोग नहीं करना चाहिए। आप नॉन-कैलोरी विकल्पों जैसे स्टीविया या अस्पर्टेम का प्रयोग चीनी की जगह कर सकते हैं। जिससे आपका स्वास्थ्य भी ठीक रहेगा और आपका स्वाद भी नहीं बिगड़ेगा।

Porridge Improves Gut Health

  1. आँतों की सेहत को सुधरता हैं (Improves Gut Health)    Porridge in Hindi 

आँतों की सेहत एक आवश्यक विषय है। जो हमारे सामान्य स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। आँतें हमारे शरीर में भोजन को पचाने, पोषक तत्वों को शरीर में शामिल करने, और अपशिष्ट पदार्थों को बाहर निकालने का काम करती हैं। व्यस्त जीवनशैली, अशुद्ध आहार, और अन्य कारणों से आँतों की समस्याएं हो सकती हैं।

आँतों की सेहत हमारे स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि यह हमारे शरीर के प्राकृतिक पाचन प्रक्रिया को नियंत्रित करती है। आँते भोजन को विभिन्न पोषक तत्वों में विभाजित करती हैं, जो हमारे शरीर के लिए आवश्यक होते हैं। इसके अलावा, आँतें खाद्य से प्राप्त अपशिष्ट पदार्थों को शरीर से बाहर निकालती हैं और आंतरिक शुद्धि का काम करती हैं।

दलिया में फाइबर होने से यह पाचन प्रक्रिया को सुधारता है और आंतों को स्वस्थ रखता है। यह गैस, कब्ज़, और अन्य पाचन संबंधी समस्याओं को कम करता है। इसलिए दलिया का सेवन पाचन क्रिया को सुधारने में मदद कर सकता है। गैस भी कई बार Heart Problems का कारण बनती हैं।

विभिन्न कारणों से आँतों की समस्याएं हो सकती हैं, जैसे कि आंतों की संक्रमण, आंतों में सूजन, गैस की समस्या, आंतों में अल्सर, आंतों में खिचाव आदि। ये सभी समस्याएं हमारी व्यस्त और अस्वस्थ जीवनशैली, खानपान की बुरी आदतें, और तनाव के कारण भी हो सकती हैं

दलिया एक पौष्टिक आहार है जिसे आम तौर पर नाश्ते में उपयोग किया जाता है।  दलिया खाने में स्वादिष्ट और पौष्टिकता से भरपूर होता है, जो हमारे शरीर के लिए फायदेमंद होता है।

दलिया में उच्च मात्रा में फाइबर होता है जो आँतों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। यह आंतों की साफ़ाई करता है और खाने को पचाने में भी मदद करता है। यह गैस, कब्ज़, और अन्य पाचन संबंधी समस्याओं को कम करता है।

फाइबर युक्त आहार आँतों के लिए फायदेमंद होता है। इससे आंतों की साफ़ाई और खाने का सामय ठीक होता है। फाइबर युक्त आहार में दलिये के साथ अनाज, सब्जियां, फल, और दालें शामिल कर सकते हैं ।

  1. हड्डियों को मजबूत करता हैं (Strengthens Bones)    Porridge in Hindi 

हड्डियों की मजबूती एक आवश्यक विषय है जो हमारे शरीर के संरचना और स्थिरता के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। हड्डियों की स्वस्थता समृद्धि के लिए महत्वपूर्ण है और इसमें पोषक आहार का खास महत्व है। दलिया एक ऐसा पौष्टिक खाद्य है जो हड्डियों की मजबूती को बढ़ाने में मदद कर सकता है।

दलिया एक शक्तिशाली पौष्टिक आहार है जिसमें फाइबर, प्रोटीन, विटामिन, और मिनरल्स भरपूर मात्रा में होते है। दलिया एक सम्पूर्ण खाद्य पदार्थ  है जिसमें सभी पोषक तत्व शामिल होते हैं जो आपके शरीर के लिए आवश्यक हैं।

दलिया में फाइबर की अच्छी मात्रा होती है जो हमारे शरीर को स्वस्थ बनाये रखने में मदद करती है। फाइबर हड्डियों के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है क्योंकि यह हड्डियों को संरचित रखता है और उन्हें मजबूत बनाता है।

दलिया प्रोटीन का भी एक बहुत अच्छा स्तोत्र है जो हड्डियों के लिए महत्वपूर्ण है। प्रोटीन के साथ-साथ दलिये में  एमिनो एसिड भी होता है जो हड्डियों को रिपेयर करने में मदद करता है। विभिन्न प्रकार की दालें प्रोटीन का अच्छा स्तोत्र होती हैं

दलिया में फोस्फोरस भी होता है जो हड्डियों के लिए फायदेमंद होता है। फोस्फोरस हड्डियों की मजबूती और स्वास्थ्य को बनाए रखता है।

दलिया में मैग्नीशियम की भी अच्छी मात्रा में होता  है जो हड्डियों के लिए फायदेमंद होता है। मैग्नीशियम हड्डियों की मजबूती और स्वास्थ्य को बनाए रखता है।

संक्षेप में कहें तो, हड्डियों की मजबूती और दलिया जैसे पौष्टिक आहार के संबंध में जानकारी हमारे शरीर के स्वास्थ्य के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। हड्डियों की स्वस्थता को सुधारने के लिए हमें दलिये जैसे पोषक आहार को  खाना बहुत  जरूरी है और दलिया एक ऐसा पौष्टिक खाद्य है जो आपके शरीर को सभी पोषक तत्वों से भरपूर बनाए रखता है।

  1. रक्तचाप को कम करता है (Lowers Blood Pressure)  Porridge in Hindi 

दलिया में मौजूद फाइबर और विटामिन बी रक्तचाप को कम करने में मदद करते हैं। रक्तचाप बढ़ने से हृदय संबंधी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए दलिया का नियमित सेवन रक्तचाप को कंट्रोल में रखने में मदद कर सकता है।

Lowers Blood Pressure

  1. कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करता है (Regulates Cholesterol)  Porridge in Hindi 

दलिया में मौजूद फाइबर रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है। उच्च कोलेस्ट्रॉल हृदय संबंधी बीमारियों को बढ़ावा देता है। इसलिए दलिया के सेवन से कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखा जा सकता है।

  1. हृदय की सेहत को सुधारता है (Improves Heart Health)        Porridge in Hindi 

दलिया में मौजूद प्रोटीन हृदय के मांसपेशियों को रिपेयर करने में मदद करता है और हृदय को स्वस्थ रखने में सहायक होता है। यह हृदय के लिए फायदेमंद है और इससे हृदय की सेहत को सुधारा जा सकता है।

दलिया एक पौष्टिक खाद्य है जिसमें फाइबर, प्रोटीन, विटामिन, और मिनरल्स से भरपूर होता है। यह एक पूर्ण खाद्य है जिसमें सभी पोषक तत्व शामिल होते हैं जो हमारे शरीर के लिए आवश्यक हैं।

दलिया एक पौष्टिक अनाज है जो हृदय स्वास्थ्य को सुरक्षित और अच्छे रखने में मदद कर सकता है। यह फाइबर, प्रोटीन, विटामिन, और मिनरल्स से भरपूर होता है जो हमारे हृदय के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं। इसमें मौजूद फाइबर हृदय संबंधी रोगों को रोकने में मदद करता है और रक्तचाप को कम करता है।

दलिया में प्रोटीन हृदय के मांसपेशियों को रिपेयर करने में मदद करता है और हृदय को स्वस्थ रखने में सहायक होता है। इसमें विटामिन बी हृदय संबंधी रोगों से लड़ने की क्षमता को बढ़ाता है और रक्तचाप को कम करता है। दलिया में अंटीऑक्सिडेंट्स हृदय को संरक्षित रखने में मदद करते हैं और हृदय की सेहत को बढ़ाते हैं।

  1. वजन नियंत्रण में मदद करता है (Helps with Weight Control)          Porridge in Hindi 

मोटापा हमारे शरीर के लिये बहुत हानिकारक होता हैं हृदय सम्बन्धी बिमारियों का मुख्य कारण मोटापा ही होता हैं। दलिया एक कम कैलोरी वाला खाद्य है जिससे वजन नियंत्रण में मदद मिलती है। यह भूख को कम करता है और आपको भोजन की मात्रा को संभालने में सहायक होता है। इसलिए दलिया का सेवन वजन नियंत्रण में मदद कर सकता है और मोटापे को घटाता हैं।

  1. ऊर्जा का स्रोत (Source of Energy)        Porridge in Hindi 

दलिये  का सेवन करने वाला व्यक्ति पूरा दिन ऊर्जावान महसूस करता है। ऐसा दलिया में पाए जाने वाले कार्बोहाइड्रेट के कारण होता है। रोजाना एक कप दलिया खाने से शरीर में विटामिन बी1, बी2, मिनरल्स, मैग्नीशियम, मैंगनीज आदि की पूर्ति हो जाती है। इसमें मौजूद पोषक तत्व हमारे शरीर से toxic पदार्थो  को बाहर निकालकर हमें कई बीमारियों से बचाते हैं।

  1. हीमोग्लोबिन बढ़ाता है (Increases Hemoglobin)          Porridge in Hindi 

आयरन की कमी (Iron Deficiency) के कारण शरीर में हीमोग्लोबिन (Hemoglobin) का स्तर कम हो जाता है। हीमोग्लोबिन कम होने से शरीर में कमजोरी और थकान की शिकायत हमेशा बनी रहती है। दलिया आयरन का अच्छा स्रोत माना जाता  है, जो शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा को संतुलित करता है। इसके अलावा दलिया शरीर के तापमान और मेटाबॉलिज्म (Metabolism) को भी सही बनाए रखता है

Porridge या दलिया बनाने की विधि:-  Porridge in Hindi

दलिये को बनाने के लिए विभिन्न तरीके हैं और यह भोजन के रूप में तैयार किया जा सकता है। दलिया बनाने की एक साधारण विधि निम्नलिखित है:

सामग्री:

दलिया – 1 कप

पानी – 2 कप

घी – 1 चम्मच

 

तैयारी की विधि:

सबसे पहले दलिया को धोकर अच्छे से साफ कर लें।

एक कढ़ाई में घी गरम करें और उसमें दलिया डालें। दलिया को हल्के भूरे रंग तक भून लें।

अब पानी डालें और दलिया को हल्की आंच पर मिलाते हुए उबालें और  पकाएं।

पानी सूखने और दलिये के गलने तक हल्की आंच पर पकायें

अब दलिया या पोरिज़ तैयार है, इसे गरमा गरम और स्वादिष्ट तरीके से सर्व करें।

 

ध्यान दें:

पोरिज़ बनाते समय दलिया को अच्छे से भून लें, ताकि इसका स्वाद बेहतर हो।

सारांश (CONCLUSION) :-  Porridge in Hindi

पोरिज़ एक स्वादिष्ट, पौष्टिक और सुपाच्य भारतीय खाद्य पदार्थ है जिसमें अनेक स्वास्थ्यवर्धक गुण होते हैं। यह विभिन्न रूपों में बनाया जा सकता है और इसका नियमित सेवन आपके शारीरिक स्वास्थ्य को ठीक और  बेहतर बनाने में मदद कर सकता है।

दलिये में प्रोटीन, फाइबर, विटामिन, और मिनरल्स प्रचुर मात्रा में होते हैं जो शरीर के लिए लाभकारी होते हैं। पोरिज़ या दलिये  का नियमित सेवन वजन नियंत्रण में मदद करता है, रक्त शर्करा (Blood Sugar) के स्तर को नियंत्रित करता है, आँतों की सेहत को सुधारता है और हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है। तो, आइए इस पौष्टिक खाद्य पदार्थ को अपने आहार में शामिल करें और सेहतमंद और फिट रहें।

धन्यवाद

यह आर्टीकल आपको कैसा लगा? हमें जरूर बतायेगा, हमें आपके विचारों तथा सुझावों का इंतजार रहेगा। आप हमें सुझाव COMMENT BOX के जरिये भेज सकते हैं।

DISCLAMIER: – HEALTHSWIKI.COM केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए सामान्य जानकारी प्रदान करता है। इस वेबसाइट का उद्देश आपको अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना और स्वास्थ्य से जुडी जानकारी मुहैया कराना हैं। HEALTHSWIKI.COM साइट में दी गई जानकारी, या अन्य साइटों के लिंक के माध्यम से प्राप्त जानकारी, चिकित्सा या पेशेवर देखभाल के लिए एक विकल्प नहीं है। यदि आपको लगता है कि आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है तो आपको तुरंत अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

Visited 4 times, 1 visit(s) today

2 thoughts on “Porridge in Hindi / क्या आप जानते हैं दलिया खाने के 9 फ़ायदे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com