Yoga for Constipation / कब्ज़ से हैं परेशान योग से होगा समाधान

Suffering from constipation

नमस्कार दोस्तों ! आज हम बात करेंगे yoga for constipation के बारे में। योगासनों के द्वारा कैसे कब्ज़ से छुटकारा पाया जा सकता हैं?

Yoga for Constipation

कब्ज एक आम स्वास्थ्य समस्या है जिससे आजकल बहुत से लोग परेशान रहते हैं। खासतौर पर आधुनिक जीवनशैली, गलत  खानपान के कारण, बढ़ती उम्र और तनाव के चलते कई लोगों को कब्ज की समस्या हमेशा बनी रहती है।

कब्ज से छुटकारा पाने के लिए योग एक प्राकृतिक और प्रभावशाली उपाय है। योग के अभ्यास से शरीर को नियमित रूप से काम करने में मदद मिलती है, जिससे कब्ज की समस्या दूर होती है।

योग कैसे कब्ज में मदद कर सकता है?

योग दो तरह से कब्ज से राहत देता है:

1. तनाव प्रबंधन 

सबसे पहले, यह आपके मानसिक तनाव को कम करने में मदद करता है, जो आपके पाचन तंत्र की कार्यप्रणाली में काफी सुधार कर सकता है। आप देख सकते हैं कि जब आप तनावग्रस्त होते हैं तो आपको   “कब्ज़” होने की संभावना अधिक होती है। 

बस ध्यान लगाने और गहरी सांस लेने से चीजों को आगे बढ़ने में मदद मिल सकती हैऔर आपको क़ब्ज़ से राहत मिल सकती हैं ।

2. पाचन तंत्र की मालिश (digestive system massage)

दूसरे तरीके से योग आपके पाचन तंत्र को लाभ पहुंचाता है, वह है घुमाव ( twists), व्युत्क्रम (inversions) और आगे की ओर मोड़ना      (forward bends) वाले योगासन ।

ये आसन आपके पाचन अंगों की मालिश करते हैं, उनमें रक्त प्रवाह (Blood Circulation) और ऑक्सीजन की मात्रा को बढ़ाते है। 

क्रमाकुंचन (peristalsis) की प्रक्रिया में सहायता करते हैं, और मल (Stool) को आपके सिस्टम के माध्यम से आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। नियमित रूप से योग करने से नियमित मल त्याग हो सकता है। 

इस लेख में, हम योग से कब्ज का इलाज करने के लिए कुछ प्रमुख आसनों के बारे में चर्चा करेंगे और उनके फायदे के साथ-साथ इन्हें कैसे करना है, विस्तारपूर्वक  बताएँगे।

कब्ज में लाभकारी कुछ योगासन

1. पवनमुक्तासन (Wind-Relieving Pose):- Yoga for Constipation

Yoga for Constipation

READ ALSO:-कमर दर्द के लिए योग- एक प्राकृतिक उपचार

पवनमुक्तासन कब्ज के इलाज में बहुत मददगार साबित होता है। इसके लिए नीचे दिए गए स्टेप्स का पालन करें:

स्टेप 1: सीधे पैरों वाले आसन पर लेट जाएँ।

स्टेप 2: अपने दोनों पैरों को आपस में मिलाएँ और घुटनों को अपने सीने के करीब लाएँ।

स्टेप 3: अपने दोनों हाथों से अपने घुटनों को पकड़ें और अपने सीने को आपके घुटनों के पास लाएँ।

स्टेप 4: अब अपने सीने को अपने पैरों के साथ मिलाएँ और अपने सिर को अपने घुटनों पर रखें।

स्टेप 5: इस स्थिति में कुछ समय तक रहें और फिर से आराम से वापसी करें।

2. पश्चिमोत्तानासन (Seated Forward Bend):- Yoga for Constipation 

Seated Forward Bend Yoga for Constipation

पश्चिमोत्तानासन भी कब्ज से निजात पाने के लिए उपयुक्त आसन है। इसे करने के लिए नीचे दिए गए स्टेप्स का पालन करें:

स्टेप 1: सीधे पैरों वाले आसन पर बैठ जाएँ।

स्टेप 2: अपने हाथों से अपने पैरों की उंगलियों को पकड़ें।

स्टेप 3: अपने हिप्स को सीधा रखते हुए अपने शरीर को आगे की ओर झुकाएँ।

स्टेप 4: आगे की ओर झुकते समय अपने पैरों की ओर और आगे की ओर जाएँ और अपने पांवों को पकड़ें।

स्टेप 5: इस स्थिति में कुछ समय तक रहें और फिर धीरे-धीरे आराम से वापसी करें।

3. मत्स्यासन (Fish Pose):- Yoga for Constipation

Fish Pose Yoga for Constipation

मत्स्यासन भी कब्ज के इलाज में फायदेमंद साबित होता है। इसे करने के लिए नीचे दिए गए स्टेप्स का पालन करें:

स्टेप 1: पहले एक योगा मैट पर लेट जाएँ।

स्टेप 2: अपने हाथों को अपने बड़े टोकरी के रूप में पेट के नीचे रखें।

स्टेप 3: फिर अपने अंगूठे और अनामिका को सामने की ओर बढ़ाएँ और उन्हें एक दूसरे के साथ मिलाएँ।

स्टेप 4: इसके बाद अपने बाएं पैर को अपने दाएं पैर पर रखें और फिर अपने दाएं पैर को अपने बाएं पैर पर रखें।

स्टेप 5: इस स्थिति में कुछ समय तक रहें और फिर धीरे-धीरे आराम से वापसी करें।

4. बालासन (Child’s Pose):-  Yoga for Constipation

Child's Pose  Yoga for Constipation

बालासन एक आरामदायक आसन है जो कब्ज से निजात पाने में मदद करता है। इसे करने के लिए नीचे दिए गए स्टेप्स का पालन करें:

स्टेप 1: पहले योगा मैट पर बैठ जाएँ।

स्टेप 2: अपने बूढ़े टोकरी की भांति अपने पैरों को आपस में मिलाएँ और अपने घुटनों को अपने पेट के ऊपर रखें।

स्टेप 3: अपने हाथों को आगे की ओर बढ़ाएँ और अपने सिर को आगे की ओर झुकाएँ।

स्टेप 4: इस स्थिति में कुछ समय तक रहें और फिर धीरे-धीरे आराम से वापसी करें।

5. त्रिकोणासन (Triangle Pose):-  Yoga for Constipation

Triangle Pose Yoga for Constipation

त्रिकोणासन भी कब्ज के इलाज के लिए लाभदायक है। इसे करने के लिए नीचे दिए गए स्टेप्स का पालन करें:

स्टेप 1: सीधे पैरों वाले आसन पर खड़े हो जाएँ।

स्टेप 2: अपने हाथों को आपस में मिलाएँ और उन्हें अपने सिर के ऊपर उठाएँ।

स्टेप 3: अब आपको दाएं ओर झुकना होगा और अपने दाएं हाथ को अपने दाएं पैर को छूने की कोशिश करनी होगी।

स्टेप 4: अब अपने दाएं हाथ को बाएं हाथ के साथ मिलाएँ और नीचे की ओर झुकना होगा।

स्टेप 5: इस स्थिति में कुछ समय तक रहें और फिर धीरे-धीरे आराम से वापसी करें।

6. भुजंगासन (Cobra Pose):-  Yoga for Constipation

Cobra Pose Yoga for Constipation

भुजंगासन भी पेट से संबंधित समस्याओं के लिए लाभदायक है। इसे करने के लिए नीचे दिए गए स्टेप्स का पालन करें:

स्टेप 1: पहले योगा मैट पर पेट के बल लेट जाएँ।

स्टेप 2: अपने हाथों को सीधा रखते हुए शरीर को ऊपर की ओर उठाएँ।

स्टेप 3: अब अपने सिर को ऊपर की ओर उठाएँ और अपने आँखें ऊपर की ओर देखें।

स्टेप 4: इस स्थिति में कुछ समय तक रहें और फिर धीरे-धीरे आराम से वापसी करें।

7. वज्रासन या अदम्य मुद्रा (Vajrasana or The Adamant Pose):-Yoga for Constipation

Vajrasana Yoga for Constipation

वज्रासन (Vajrasana) एक प्रसिद्ध योग आसन है जो शरीर के साथ-साथ मन को भी शांति प्रदान करता है। यह आसन पेट संबंधी  समस्याओं को दूर करने में मदद करता है और पाचन तंत्र को सुधारता है। वज्रासन को बैठकर किया जाता है और यह आसान बड़ी  आसानी से किया जा सकता है। नीचे दिए गए स्टेप्स में वज्रासन को करने की विधि दी गई है:-

स्टेप 1: सबसे पहले एक योग मैट पर खड़े हो जाएँ। 

स्टेप 2: अब अपने पैरों को एक-दूसरे के साथ जोड़ें और अपने टखनों को जमीन पर साफ़ रखें। आपकेघुटने जमीन पर आना चाहिए।  

स्टेप 3: फिर से दोनों पैरों को एक-दूसरे के साथ जोड़ें और अपने टखनों को जमीन पर साफ़ रखें। आपके घुटने जमीन पर आना चाहिए। 

स्टेप 4: अब अपने पैरों के नीचे से अपने नाभि तक के बाएं हाथ को लेकर उसे जमीन पर रखें। इसके बाद अपने दाएं हाथ को भी ऐसे ही रखें। आपके हाथ जमीन पर रहने चाहिए और उन्हें थोड़ा आगे भाग कर रखें। 

स्टेप 5: ध्यान रखें कि आपके पैरों के नीचे से अपने गुट्ठे तथा टखनों को भी जमीन पर टिका रहे। अपने पैरों की उंगलियों को आपस में मिलाएं और अपने पाँवों की ओर उंगलियों को दिखाएं। 

स्टेप 6: आपकी रीढ़ को सीधा रखें और ध्यान रखें कि आपकी गर्दन भी सीधी होनी चाहिए। आपके सिर को ऊपर की ओर इंगित करते हुए ध्यान केंद्रित करें। 

स्टेप 7: अब आप वज्रासन में स्थिर हो जाएँ। इस स्थिति में आपको साँसें धीरे-धीरे लेनी है और ध्यान धारण करना है। ध्यान रखें कि आपके वज्रासन में शरीर के सभी अंग शांत हों और आपके मन को भी शांत करें।

स्टेप 8: वज्रासन में रहने के लिए कम से कम 1 से 5 मिनट तक विराम करें। धीरे-धीरे विराम को छोड़ते समय अपने पैरों को धीरे से फैलाएं और उठें।

ध्यान दें: वज्रासन को करते समय ध्यान रखें कि आप इसे खाली पेट अथवा भोजन करने के बाद करें। इसे रात्रि में नहीं करना चाहिए।गर्भवती महिलाएं और उन्हें गर्भावस्था के दौरान वज्रासन करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें। यदि आपको किसी भी प्रकार की सेहत संबंधी समस्या है, तो भी पहले डॉक्टर से परामर्श करें।

वज्रासन को नियमित रूप से करने से पेट संबंधी समस्याएं कम हो सकती हैं और पाचन तंत्र सुधारे जा सकते हैं। यह आसान बड़ी आसानी से किया जा सकता है और इसे नियमित रूप से अभ्यास करने से आपको शारीरिक और मानसिक संतुलन मिलेगा। तो, वज्रासन को अपने दिनचर्या में शामिल करके आप अपने स्वास्थ्य को सुधार सकते हैं।

8. हलासन या हल मुद्रा (Halasana or the Plough Pose):-Yoga   for  Constipation

 Halasana or the Plough Pose Yoga for Constipation

हलासन (Halasana) एक प्रसिद्ध आसन है। जो पूरे शरीर को संशोधित करने में मदद करता है। यह आसन पेट से संबंधित समस्याओं,  कब्ज और  गैस से छुटकारा दिलाता हैं  और पाचन को सुधारने में मददगार साबित होता है। हलासन को करने के लिए निम्नलिखित स्टेप्स  का पालन करें:

स्टेप 1: सबसे पहले एक योग मैट पर पेट के बल ले जाएँ। 

स्टेप 2: अब अपने हाथों को बड़ी आराम से अपने सिर के नीचे रखें। आपके हाथ पैदलों की ओर होने चाहिए। 

स्टेप 3: पूरे ध्यान से सांस छोड़ते हुए अपने पैरों को अपने सिर की ओर उठाएँ। धीरे-धीरे अपने पैरों को अपने सिर के पीछे ले जाएँ। 

स्टेप 4: आपके पैरों को जितना ज्यादा हो सके, उतना अपने सिर के पीछे ले जाएँ। ध्यान रखें कि आपके पैरों को तब तक आगे ले जाएँ जब तक आपकी पीठ सीधी हो जाए। 

स्टेप 5: इस स्थिति में कुछ समय तक रहें और फिर धीरे-धीरे वापसी करें। पैरों को धीरे से सिर से नीचे लाएँ और आराम से पेट के  बल लेट जाएँ।

ध्यान दें:

हलासन को करते समय ध्यान रखें कि आपकी पीठ सीधी हो जाए। इस आसन को करते समय अपने पूरे शरीर को संजोयें और कसरत को स्थिर रखें। कमर को ज्यादा न कसें और धीरे-धीरे अपने पैरों को आगे ले जाएं। इसे कम से कम 10 सेकंड तक बनाए रखने का प्रयास करें और धीरे-धीरे समय बढ़ाते जाएं।

ध्यान दें कि हलासन को करने से पहले पूरे शरीर को गरम करें और सर्दियों में इसे न करें। इसे खाली पेट अथवा भोजन करने के बाद करने से बचें। गर्भवती महिलाएं, बैक पेन से पीड़ित लोग, और शारीरिक रूप से असमर्थ लोग हलासन को करने से पहले डॉक्टर से परामर्श करें।

9. धनुरासन या धनुष मुद्रा (Dhanurasana or the Bow Pose):-b  Yoga for Constipation

Dhanurasana or the Bow Pose Yoga for Constipation

धनुरासन (Dhanurasana) एक प्रसिद्ध  योग आसन है जो धनुरासन करने वाले व्यक्ति के शरीर को धनुरासन के आकार में बाण की  तरह दिखाता है। यह आसन पृष्ठमार्गी (बैकवर्ड बेंडिंग) आसनों में से एक है और पूरे शरीर को विस्तार करने में मदद करता है। धनुरासन  को करने के लिए निम्नलिखित स्टेप्स का पालन करें:

स्टेप 1: सबसे पहले एक योग मैट पर पेट के बल लेट जाएँ। 

स्टेप 2: अपने पैरों को थोड़ा आसपास फैलाएँ और अपने हाथों को अपने शरीर के सिर की ओर ले जाएँ। 

स्टेप 3: अपने चेहरे को आसमान की ओर देखें और धीरे-धीरे सांस छोड़ें। 

स्टेप 4: अब अपने पैरों को ऊपर की ओर उठाएँ और अपने हाथों को पैरों की उंगलियों को पकड़ने के लिए अपने पीठ से जुड़े हुए टखनों की ओर ले जाएँ। धनुरासन के दौरान आपके हाथ पीठ पर सामने की ओर होने चाहिए। 

स्टेप 5: इस स्थिति में कुछ समय तक रहें और फिर धीरे-धीरे वापसी करें। अपने हाथों को धीरे से छोड़ें और अपने पैरों को सांस के साथ नीचे लाएँ।

ध्यान दें:

धनुरासन को करते समय ध्यान रखें कि आपकी गर्दन सीधी हो और चेहरे को आसमान की ओर देखें। इस आसन को करते समय आपके पूरे शरीर को संजोएं और धीरे-धीरे आसन को आगे बढ़ाएं। ध्यान रखें कि धनुरासन को करते समय आपके पैरों को ज्यादा ज़ोर से उठाने की कोशिश न करें, बल्कि इसे धीरे से करें।

इस आसन को शामिल करने से पहले, गर्भवती महिलाएं, पीठ दर्द से पीड़ित लोग और कमजोर शरीर वाले व्यक्ति को इसे करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

योग से कब्ज का इलाज करने के लिए यह आसन बहुत मददगार हो सकते हैं। योग के इन आसनों को नियमित रूप से अभ्यास करने से आपको कब्ज से छुटकारा मिल सकता है और आपके पेट की समस्याएं भी कम हो सकती हैं। लेकिन ध्यान रखें कि योग आसनों को करने से पहले एक योग गुरु या योग इंस्ट्रक्टर से परामर्श जरूर लें और इन आसनों को सही तरीके से करने के लिए धीरज और स्थिरता से प्रयास करें।

समाप्ति:

कब्ज से पीड़ित होने की स्थिति से छुटकारा पाने के लिए योग एक अच्छा तरीका है। योग आसनों को नियमित रूप से अभ्यास करने से आपके शरीर की क्रिया-कलाप और पाचन तंत्र को सुधारने में मदद मिलेगी और आपको कब्ज से राहत मिलेगी। इसे एक स्वस्थ और सकारात्मक जीवनशैली के हिस्से के रूप में अपनाने से आपके स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है और आपको अधिक सकारात्मक और उत्साही बना सकता है। तो, आज ही योग आसनों का अभ्यास करें और कब्ज से मुक्ति पाएं।

धन्यवाद

यह आर्टीकल आपको कैसा लगा? हमें जरूर बतायेगा, हमें आपके विचारों तथा सुझावों का इंतजार रहेगा। आप हमें सुझाव COMMENT BOX के जरिये भेज सकते हैं।

DISCLAMIER: – HEALTHSWIKI.COM केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए सामान्य जानकारी प्रदान करता है। इस वेबसाइट का उद्देश आपको अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना और स्वास्थ्य से जुडी जानकारी मुहैया कराना हैं। HEALTHSWIKI.COM साइट में दी गई जानकारी, या अन्य साइटों के लिंक के माध्यम से प्राप्त जानकारी, चिकित्सा या पेशेवर देखभाल के लिए एक विकल्प नहीं है। यदि आपको लगता है कि आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है तो आपको तुरंत अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

Visited 3 times, 1 visit(s) today

3 thoughts on “Yoga for Constipation / कब्ज़ से हैं परेशान योग से होगा समाधान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com