kamar dard ke karan / कमर दर्द के कारण

नमस्कार दोस्तों! आज हम बात करेंगे kamar dard ke karan के बारे में । कमर दर्द क्या होता हैं? और ये क्यूँ होता हैं ।

कमर दर्द या पीठ दर्द (Back Pain) किसी को भी, किसी भी उम्र में हो सकता है।

कमर दर्द कभी भी या किसी भी कारण से हो सकता है।

साधारण Back Pain कुछ समय के बाद अपने -आप ही ठीक हो जाता है।

kamar dard ke karan

और पढ़े:क्या आप जानते हैं Immunity Boosting Herbs के बारे में ?

इसी कारण, ज्यादातर लोग इसे गंभीरता से नहीं लेते हैं। आजकल पीठ का दर्द एक आम बात हो गई kamar dard ki tablet हैं। हमारी कुछ ग़लत आदतें भी kamar dard ke karan हो सकती हैं ।

हर कोई अपने जीवन में कभी न कभी कमर दर्द का अनुभव करता है। पीठ दर्द वैसे तो किसी भी उम्र में हो सकता हैं, परंतु 30 से 55 साल के वयस्कों में पीठ दर्द का होना एक आम समस्या है।

कुछ लोगों में कमर दर्द एक बीमारी का रूप ले लेती हैं और  परेशानी का कारण बन जाती है।

हमें कमर दर्द के  शुरूआत में ही आवश्यक सावधानियाँ या कदम उठाने चाहिए जिससे पीठ का दर्द और अधिक न बढ़ सके ।

कमर दर्द एक गंभीर शारीरिक समस्या हैं । इसमें मरीज़ को बहुत दर्द और तकलीफ़ होती हैं ।

BACK PAIN (कमर दर्द) क्या है?-kamar dard ke karan 

कमर दर्द को पीठ दर्द के नाम से भी जाना जाता हैं जब किसी व्यक्ति को पीठ में या पीठ के निचले हिस्से  में दर्द होता हैं kamar dard ki tablet यह दर्द किसी भी कारण से हो सकता हैं जैसे माँसपेसिओ में खिंचाव, रीढ़ की हड्डी में दर्द आदि

पीठ दर्द या कमर दर्द के कारण:-kamar dard ke karan 

पीठ दर्द के कारणों को समझने के लिए हमें रीढ़ की हड्डी को समझना होगा। पीठ 33 कशेरुकाओं या हड्डियों(vertebrae or bones) से बनी होती है।

इसे 5 समूहों में बांटा गया है:

1. सरवाइकल (Cervical)

2. थोरैसिक (Thoracic)

3. लम्बर (Lumber)

4. सैक्रम (Sacrum)

5. कोक्सीक्स (coccyx)

ऊपरी पीठ या गर्दन को हम ग्रीवा रीढ़( cervical spine)भी कहते हैं जिसमें 7 vertebrae होते हैं।

The Thorax यानी मध्य पीठ (Middle Back) जिसमें 12 vertebrae होते हैं ।

पीठ के निचले हिस्से(Lower Back)  में 5 vertebrae होते हैं ।

Sacrum जिसे त्रिकास्थि भी कहा जाता हैं Sacrum में 5 जुड़े हुए vertebrae होते हैं, और Coccyx (कोक्सीक्स) जिसे पूंछ की हड्डी भी कहा जाता हैं इसमें 4 Vertebrae एक साथ जुड़े होते हैं ।

Vertebrae के बीच डिस्क के साथ Ligaments और Muscles द्वारा Vertebrates को एक साथ रखा जाता है। हमारी डिस्क में एक जेली जैसा पदार्थ भरा होता हैं जो एक अवशोषक की तरह कार्य करता हैं।

The Vertebrates हमारे शरीर को स्थिरता और समर्थन (Stability and Support) प्रदान करने के लिए एक साथ जुड़ते हैं। Vertebrae रीढ़ की हड्डी और रीढ़ की हड्डी की नसों को सुरक्षा प्रदान करते हैं।

क्योंकि हमारा तंत्रिका तंत्र (Nervous System) बहुत ही जटिलता लिये हुए हैं, इसलिए पीठ दर्द के सटीक कारण का पता लगाना मुश्किल है।

kamar dard ke karan को श्रेणियों में बांटा गया है: यांत्रिक(mechanical ), चोट (Injury ), रोग (Disease), संक्रमण या ट्यूमर (Infection या Tumour)

: सबसे पहले हमें ये देखना होगा की हमारी रीढ़ की हड्डी कैसे काम करती है? Mechanical causesये हो सकती हैं । उदाहरण के लिए, स्पोंडिलोलिस्टेसिस (Spondylolisthesis) जिसमें डिस्क का एक Vertebrae दूसरे Vertebrae के बहुत पास आ जाते हैं जिनसे उनके बीच का Distance कम हो जाता हैं, जिससे Vertebrae एक साथ घिस जाते हैं, जिससे दर्द kamar dard ki tablet होता है। इनके अलावा और भी कई यांत्रिक समस्याएं होती हैं जैसे हड्डी टूटना (Fracture), Herniated disc, spinal stenosis, spinal degeneration और sciatica

चोट लगना( Injuries): – kamar dard ke karan 

इस श्रेणी में रीढ़ की हड्डी या रीढ़ से जुड़े स्नायुबंधन (Spinal Cord) और मांसपेशियों (Muscles)  में चोट के कारण पीठ दर्द होता हैं । मोच इसका एक सामान्य  उदाहरण हैं जब कभी हम अपनी क्षमता से अधिक भार उठा लेते हैं तो हमारी कमर की muscles में अत्यधिक खिंचाव आ जाता हैं जिसके कारण हमें पीठ का दर्द हो जाता हैं

यहां तक ​​​​कि गलत तरीके से मुड़ने या चलने पर भी हमारी पीठ में दर्द रहने लग जाता हैं ।

Acquired disorders-kamar dard ke karan 

NIH के अनुसार ये ऐसी मेडिकल समस्याएं हैं जिनके साथ आप पैदा हुए होंगे जैसे Scoliosis (रीढ़ की असामान्य वक्रता) से लेकर अन्य समस्याएं जो आपने हासिल की हैं, जैसे गठिया (osteoarthritis and rheumatoid arthritis) जिससे फ्रैक्चर हो सकता है; musculoskeletal pain syndromes जैसे spinal stenosis (रीढ़ की हड्डी या नसों पर दबाव डालने वाली रीढ़ की हड्डी की नहर का संकुचित होना) ।

संक्रमण (Infection)-kamar dard ke karan 

संक्रमण, हालांकि आम नहीं है, अगर संक्रमण Vertebrae में हो तो दर्द हो सकता है । इसके दो उदाहरण हैं Osteomyelitis जिसमें Vertebrae में संक्रमण और सूजन आ जाती हैं और बहुत दर्द होता हैं ।

 Discitis इसमें डिस्क में संक्रमण हो जाता हैं जिसके कारण पीठ में लगातार दर्द रहता हैं ।

आपके चिकित्सक को आपके पीठ दर्द के उचित उपचार देने से पहले यह जानना जरूरी होगा की दर्द कैसे शुरू हुआ या kamar dard ke karan क्या थे?  उसे आपके  संपूर्ण चिकित्सा इतिहास और शारीरिक परीक्षा करने की आवश्यकता होगी।

आपको अपने दर्द का स्पष्ट संक्षिप्त विवरण देना होगा । आपके चिकित्सक को यह जानने की आवश्यकता होगी कि दर्द कैसे शुरू हुआ, जब यह शुरू हुआ तो आप क्या कर रहे थे, यह कितना गंभीर है, क्या यह आता है और जाता है या यह स्थिर है, और क्या दर्द को बेहतर या बदतर बनाता है ।

आपको कुछ परीक्षणों से गुजरना होगा। पीठ दर्द का निदान करने के लिए किए जाने वाले सामान्य परीक्षण एक्स-रे ( X-Ray), हड्डी स्कैन और MRI हैं।

धन्यवाद

यह आर्टीकल आपको कैसा लगा? हमें जरूर बतायेगा, हमें आपके विचारों तथा सुझवों का इंतजार रहेगा। आप हमें सुझाव COMMENT BOX के जरिये भेज सकते हैं। 

DISCLAMIER: – HEALTHSWIKI.COM केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए सामान्य जानकारी प्रदान करता है। इस वेबसाइट का उद्देश आपको अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना और स्वास्थ्य से जुडी जानकारी मुहैया कराना हैं। HEALTHSWIKI.COM साइट में दी गई जानकारी, या अन्य साइटों के लिंक के माध्यम से प्राप्त जानकारी, चिकित्सा या पेशेवर देखभाल के लिए एक विकल्प नहीं है। यदि आपको लगता है कि आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है तो आपको तुरंत अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

Visited 2 times, 1 visit(s) today

2 thoughts on “kamar dard ke karan / कमर दर्द के कारण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com